होली का रंग चूत चुदाई के संग- 7

गर्ल गर्ल सेक्स कहानी में पढ़ें कि हम चार लड़कियाँ अपने चोदू यारों की गांड मारना चाह रही थी डिल्डो से! लेकिन उससे पहले हमने आपस में लेस्बियन सेक्स का मजा लिया.

फ्रेंड्स, मैं फेहमिना इकबाल आपका अपनी सेक्स कहानी में पुन: स्वागत करती हूँ.
कहानी के पिछले भाग
चार लड़कियों की गांड चुदाई
में अब तक आपने पढ़ा था कि सुबह चार बजे तक चुदाई का बड़ा ही रंगीन मंजर चला था, जिसमें हम सब काफी थक गए थे और सो गए थे.

अब आगे गर्ल गर्ल सेक्स कहानी:

अगली सुबह 10 बजे मेरी आंख खुली तो सब सो रहे थे.
मगर मैंने देखा कि नेहा रूम में नहीं थी.

मैं ऐसे नंगी ही उसे खोजने गयी.
मैंने देखा वो बाथरूम में बैठकर मोहित को गाली दे रही थी.

मैंने उससे पूछा कि क्या हुआ?
उसने कहा कि कल मोहित ने अपना पानी मेरी चूत में डाल दिया और मैं प्रेग्नेंट नहीं होना चाहती.

मैंने कहा- तू पूरी पागल है, पिल ले लेना.
वो बोली- यार, मुझे पिल से एलर्जी है.

ये सुनकर मेरी भी फट गयी.
मैंने उससे कहा- चल अब जो होगा देखा जाएगा.
मैं उसे बाहर लेकर आई और रिया और आयेशा को भी उठाया और उन्हें चलने को बोला.

रिया ने सब लड़कों को उठाया तो अमन और मोहित की हालत ज्यादा ख़राब थी.
उनसे उठा भी नहीं जा रहा था.
किसी तरह उन्हें गाड़ी तक लेकर गए.

फिर हम सब अपने अपने घर आ गए.
मैंने तो आते ही कपड़े उतार दिए और नंगी होकर बाथरूम में घुस गयी.

मुझे देखकर आयेशा भी नंगी होकर बाथरूम में आ गयी और हम दोनों नहाने लगी.

वो बोली- यार, बहुत दिनों बाद ऐसी चुदाई हुई है.
मैंने कहा- हां यार ये बात तो सही है.

फिर वो मेरी चूत छूती हुई बोली- यार तेरी चूत में जब मोम गिराया था तो कैसा लगा था?
मैंने कहा- याद मत दिला. जब पहली बार चूत में लंड लिया था, तब भी इतना दर्द नहीं हुआ था मगर अब मुझे उस बहन के लंड मोहित की माँ चोदनी है.

आयेशा ने कहा- तू ऐसा क्या करने वाली है?
मैंने कहा- तू बस देखती जा, मैं क्या करती हूँ.

आयेशा ने कहा- बता न, क्या करने वाली है?
मैंने कहा- अब ये डिल्डो पर मिर्च लगाकर उसकी गांड में डालूंगी, तो साले की गांड में ज्वालामुखी फट जाएगा.

ये सुनकर आयेशा ने कहा- अबे यार, गुस्से में पागल मत बन, कहीं कुछ हो गया तो लेने के देने पड़ जाएंगे.
उसने मुझे बहुत समझाया.

अंत में मैंने उसी से पूछा- मैं कैसे बदला लूँ?
आयेशा ने कहा- मोम का बदला मोम से!
मैंने कहा- मतलब?

आयेशा ने कहा- जैसे उसने तेरी चूत में मोम डाला था, वैसे ही तू उसकी गांड में मोम डाल देना मगर मॉम गांड के छेद में अन्दर जाना चाहिए.
मैंने उसकी बात मान ली.

फिर हम दोनों नहाने लगीं और आकर बिस्तर पर नंगी ही सो गईं.
उस पूरे दिन हम दोनों ऐसे ही नंगी सोती रहीं.

शाम को लगभग 7:00 बजे मेरी आंख खुली तो मैंने देखा कि आयेशा नंगी मेरी बांहों में पड़ी हुई है.
वह भी बेसुध सो रही थी.

हम दोनों का चुदाई से शरीर टूट चुका था और हमारा उठने का मन नहीं कर रहा था.

फिर मैंने रिया और नेहा के साथ कॉन्फ्रेंस कॉल पर बात की और उनसे उनकी चुदाई के बाद की हालत पूछी.
उन दोनों ने ही कहा कि आज पूरी तरीके से शरीर भी टूट रहा है.

मैंने पूछा कि लड़कों की गांड चुदाई का प्रोग्राम कब का रखना है?
यह सुनते ही रिया ने कहा कि यार आज तो रहने देते हैं. कल करेंगे.

मैंने उससे कहा कि कल से तो सबके ऑफिस खुल जाएंगे.
उसने कहा कि संडे को प्रोग्राम रखते हैं. सालों की जमकर गांड मारेंगे.

हम लोगों की बात खत्म हुई और संडे का प्रोग्राम तय हो गया.
पूरा हफ्ता ऐसे ही निकल गया.

शनिवार की रात को हम सब एक जगह बैठे हुए बात कर रहे थे, तो रिया ने कहा- सालो, कल के लिए तैयार रहना.
अमन ने कहा- किस लिए?

रिया ने कहा- भूल गया तुमने क्या वादा किया था. कल तुम लोगों की गांड चुदाई का प्रोग्राम रखा है.

यह सुनते ही अमन और बाकी सबकी गांड फटने लगी.
वह बोला- रात गई बात गई!

तो आयेशा ने कहा- ओ चमन चूतिये … न कोई रात गयी है और ना कोई बात जाएगी. तुम सबने वादा किया था और अगर वादा तोड़ा न … तो तुम सबकी गांड तोड़ दी जाएगी, समझे अंधे लौड़ों.

आयेशा की बात सुनकर हम सब लड़कियां हंसने लगीं.
मैंने कहा- हां, ये सही कह रही है.

मोहित ने कहा- यार ये अच्छा नहीं लगेगा कि तुम लड़कियां होकर हमारी गांड मारोगी. बल्कि ये काम तो हम सब का है कि तुम सबकी गांड मारने का मजा लें. जैसे कल मारी थी वैसे ही फिर से मार लेंगे. और वैसे भी तुम सबको हमारी गांड मारकर मिलेगा क्या?
मैंने कहा- सुकून.

मोहित ने कहा- मतलब?
मैंने कहा- तुम सबकी गांड मारने को तो मैंने ऐसे ही मजाक में कहा था. मेरा ऐसा कोई इरादा नहीं था लेकिन तुम में से किसी चूतिये ने एक बात कही थी जिससे मेरी झांट में आग लग गयी थी. फिर उसके बाद मैंने तय कर लिया था कि अब तो इन मादरचोदों की गांड मारनी ही है.

मेरी इस बात सब लड़के और लड़कियां भी मेरी तरह आश्चर्य पूर्वक देखने लगे.
मैंने लड़कियों से कहा- हां यार मैं उस वक़्त मजाक ही कर रही थी मगर अब सीरियस हूँ.

मोहित ने कहा- अच्छा, ये तो बता किसने क्या कहा था जो तेरी झांट में आग लग गयी थी?
मैंने कहा- किसी चूतिया ने ये कहा था कि हम लकड़ियां तो होती ही गांड में लंड लेने के लिए हैं.

ये कहते समय मेरे चेहरे पर हल्का गुस्सा भी था.
तो रिया ने मुझसे कहा- यार, यह बात किसने बोली थी, मैंने ध्यान ही नहीं दिया था!

मैंने कहा- उसका नाम मैं अभी नहीं बताऊंगी, इस बात का जवाब तो उसे तब मिलेगा, जब उसकी गांड मारी जाएगी.
फिर सारे लड़के मिन्नत करने लगे कि उस भोसड़ी वाले का नाम तो बता दी.

यहां तक कि पुलकित, जिसने ये बात कही थी, वो भी भूल चुका था.
वो बोला- तू नाम बता उस मादरचोद का … जिसकी वजह से हमारी गांड मारी जाएगी. हम माँ चोद देंगे उस चूतिये की.
पुलकित की बात सुनकर मुझे जोर से हंसी आ गयी.

मैंने कहा- मेरी जान, तुझे भी उसकी माँ चोदने का मौका मिलेगा मगर पहली अपनी गांड की चिंता कर ले.

हम लड़कियां जोर देकर कहने लगीं तो मोहित बोला- ओके मार लो गांड बहन की लौड़ियो, हम भी तो देखे तुम हमारी गांड कैसे मारोगी?

इस पर नेहा ने कहा- ठीक है. कल सन्डे है और कल सब लोग शाम को 6 बजे तक इकट्ठे हो जाना.

मगर अब बात आई कि कल की चुदाई करेंगे कहां, तो यह तय हुआ कि कल की चुदाई मेरे फ्लैट पर होगी.

सब कुछ तय होने के बाद सब बकचोदी करने लगे.
मैंने देखा आयेशा और अमन एक दूसरे को किस कर रहे थे.

मैंने कहा- ओ हवस के कीड़ो, हर वक़्त कहीं भी शुरू मत हो जाया करो.
अमन मेरी इस बात पर झेंप गया और उसने आयेशा को छोड़ दिया.

फिर हम सब लोग अपने अपने घर चले गए.

उस रात आयेशा और मैंने एक जोरदार लेस्बियन सेक्स किया और ऐसे ही नंगी दोनों एक दूसरे से चिपट कर सो गईं.

अगले दिन सुबह मेरी आंख खुली तो मैंने देखा कि आयेशा अभी तक सो रही थी.

उसे हमेशा से देर तक सोने की आदत थी तो मैं उसे ऐसे ही नंगी बिस्तर पर छोड़कर घर की साफ़ सफाई करने लगी.

लगभग एक घंटे बाद मेरे फ्लैट की डोरबेल बजी तो मैं गेट खोलने जा ही रही थी कि मुझे याद आया कि मैं उस वक़्त नंगी थी.
मैंने झट से एक लम्बी वाली टी-शर्ट पहन ली, अन्दर न ब्रा थी और ना ही पैंटी और वो टी-शर्ट भी मेरी बस चूत को ही छुपा रही थी.

खैर, मैंने गेट खोला तो देखा रिया और नेहा गेट पर थीं.
मैंने दोनों को अन्दर बुलाया.

अन्दर आते ही रिया ने मेरे चूतड़ पर थप्पड़ मारा और बोली- साली, अभी भी किसी से चुद रही थी क्या?

मैंने उससे हंस कर कहा- यार कहां कोई लंड मिल रहा है?
वो दोनों मेरे कमरे में जाने लगीं.
वहां उन्होंने देखा कि आयेशा नंगी बिस्तर पर पड़ी हुई थी.

उसे ऐसे नंगी देखकर नेहा को पता नहीं क्या सूझा.
वो बोली- वाह, ये साली अभी तक सो रही है.
मैंने कहा- हां यार इसको उठा दे.
वो बोली- इसे तो मैं अलग तरीके से उठाती हूँ.

यह कहकर उसने अपने हाथ की 3 उंगली को एक साथ सैट किया और आयेशा की टांगें धीरे से हवा में उठा दीं, जिससे उसकी चूत दिखाई देने लगी.
फिर उसने एक झटके में अपनी तीनों उंगलियां एक साथ जोर से चूत में डाल दीं, जिससे आयेशा जोर से चीख उठी.

वो नींद में से ही बोली- बहनचोद किसकी माँ चुद रही है. फेहमिना साली चूतिया है क्या?

आयेशा ये सब आंख बंद करके बोल रही थी, उसे पता नहीं था कि उसकी चूत में उंगली किसने की है.
नेहा ने उससे कहा- मेरी चूत में आग लग रही थी, इसलिए तेरी चूत में उंगली मैंने की है. क्यूं बेचारी फेहमिना को चूतिया बोल रही है.

आयेशा को नेहा की आवाज सुनकर कुछ होश आया तो उसने अपनी आंखें खोल दीं.
वो रिया और नेहा को अपने सामने देखकर बोली- अरे बहनचोद तुम लोग इतनी सुबह सुबह … क्या हुआ है?

नेहा ने कहा- बहनचोदी उठ जा साली, 11 बज रहे हैं. आज लौंडों की गांड भी मारने का प्रोग्राम है.
आयेशा ने कहा- वो प्रोग्राम तो रात का है न तो बहनचोद अभी क्यूं उठा दिया.

यह कहकर आयेशा फिर से लेट गयी.
अबकी बार नेहा ने आयेशा के बूब्स जोर से दबा दिए तो आयेशा ने नेहा को पकड़कर अपने पास खींच लिया और उसे किस करने लगी.
नेहा ने खुद को छुड़ाया और बोली- साली बहनचोद ये क्या था?
आयेशा ने कहा- ये मेरी नींद ख़राब करने की सजा थी!

नेहा एकदम से भौचक्की रह गयी.
शायद उसने कभी किसी लड़की को किस नहीं किया था इसीलिए उसे इस सबकी उम्मीद नहीं थी.

नेहा को ऐसे देख कर रिया ने नेहा के गाल पर किस कर दिया और बोली- मेरी जान यह करके देख, मजा आ जाएगा.

फिर उसने आयेशा को उठाया जो कि अभी तक नंगी पड़ी थी और उसको उठाकर किस करना शुरू कर दिया.

रिया और आयेशा एक दूसरे को पूरी मस्ती से चूम चाट रहे थे.
आयेशा ने रिया के टॉप के ऊपर से उसके बूब्स दबाना शुरू कर दिए, फिर उसने रिया का टॉप उसके जिस्म से अलग कर दिया.

हम दोनों ने देखा कि रिया ने अन्दर ब्रा नहीं पहनी थी.
तभी आयेशा ने उसकी जींस भी उसके जिस्म से अलग कर दी.

रिया ने पैंटी पहनी हुई थी तो मैंने पीछे से जाकर उसकी पैंटी को उतार दिया.
अब रिया और आयेशा बेड पर एक दूसरे के ऊपर चढ़ी हुई थीं, वे दोनों एक दूसरे को पूरी मस्ती से किस कर रही थीं.

यह देख कर मुझसे भी रहा नहीं गया; मैंने भी अपनी लॉन्ग टी-शर्ट उतार दी और मैं भी नंगी हो गई.

फिर मैंने नेहा पकड़ लिया और उसे किस करना शुरू कर दिया.
नेहा को इस हमले का अंदाजा शायद नहीं था इसीलिए वह एकदम से घबरा सी गयी लेकिन वह विरोध नहीं कर रही थी.

फिर मैंने जल्दी से उसकी टी-शर्ट को भी उतार दिया.
उसने अन्दर ब्रा पहनी हुई थी.

मैंने उसके नीचे के कपड़े भी उतार दिए और नेहा को ब्रा और पैंटी में कर दिया.

नेहा काले रंग की ब्रा और पैंटी में गजब की माल लग रही थी.
मैंने उसको अपने गले से लगा लिया और उसकी गर्दन पर किस करना शुरू कर दिया.

अब धीरे-धीरे वो गर्म होने लगी थी.
उसके हाथ मेरी कमर पर चल रहे थे.

मैंने उसका चेहरा पकड़ा और उसे किस करनी शुरू कर दी.
नेहा भी अब मेरे किस का जवाब बखूबी दे रही थी.

मैंने हाथ पीछे ले जाकर उसकी ब्रा भी उतार दी और उसके बूब्स दबाने शुरू कर दिए.
मैंने बैठकर नेहा की पैंटी भी उसके जिस्म से अलग कर दी.

अब एक कमरे में हम चारों लड़कियां नंगी आपस में एक दूसरे के साथ मजा कर रही थीं.
रिया और आयेशा एक दूसरे के ऊपर चिपकी हुई थीं, इधर मैं और नेहा भी एक दूसरे के जिस्म को खा जाने की नियत से चूस रही थीं.

उधर रिया और आयेशा 69 की पोजीशन में होकर एक दूसरे की चूत चाटने लगी थीं.
ये देख कर मैं भी नेहा को लेकर बिस्तर पर आ गयी और उसके ऊपर लेट कर उसको किस करना शुरू कर दिया.

नेहा के हाथ मेरी गांड पर चल रहे थे और वो मेरी गांड को सहला रही थी.
अब नेहा पूरी तरीके से गर्म हो चुकी थी, मैं अभी भी उसका जिस्म चाट रही थी.

अचानक से नेहा ने मुझे बिस्तर पर गिरा दिया और खुद भी मेरे ऊपर आकर मुझे किस करने लगी.
फिर वह धीरे धीरे मेरे बूब्स चूसने लगी.

मुझे लेस्बियन सेक्स करने में वैसे भी बहुत मजा आता है. आप सभी जानते हैं कि मैं और आयेशा कितनी बार लेस्बियन सेक्स कर चुके हैं.
फिर मैंने हाथ ले जाकर रिया, जो कि आयेशा के ऊपर चढ़ी हुई थी, उसके बूब्स दबाने शुरू कर दिए.

नेहा उस समय मेरी जांघें चाट रही थी.
फिर वो धीरे-धीरे मेरी चूत के पास आ गई और उसने मेरी चूत चाटनी शुरू कर दी.

उधर रिया ने अपनी चूत आयेशा के मुँह पर रखी हुई थी. उसने अपना मुँह मेरे पास लाकर मुझे किस करना शुरू कर दिया.
मैं भी अब रिया को किस कर रही थी.

अब गर्ल गर्ल सेक्स की हालत यह थी कि आयेशा लेटी हुई थी और रिया ने अपनी चूत आयेशा के मुँह पर रखी हुई थी.
रिया मुझे किस कर रही थी और मेरी चूत पर नेहा ने कब्जा जमा रखा था.

मैं और रिया बहुत बुरी तरीके से एक दूसरे को ऐसे किस कर रही थी जैसे कि हम एक दूसरे को खा जाने वाली थी.

थोड़ी देर तक ऐसे ही होने के बाद जब मुझसे रहा नहीं गया तो मैंने नेहा के बाल पकड़कर उसको अपने पास लिया और रिया को छोड़ दिया.

मैंने देखा कि रिया और आयेशा 69 की पोजीशन में आकर फिर से एक दूसरे की चूत चाटने लगी हैं तो इधर मैंने नेहा को अपने ऊपर करके उसे किस करना शुरू कर दिया.

फिर हम दोनों 69 की पोजीशन में आ गए और एक दूसरे की चूत चाटने लगीं.
ऐसे करने से हम सबको बहुत मजा आ रहा था.

तभी मेरे दिमाग में एक आईडिया आया तो मैंने सबको रुकने के लिए बोला.
रिया ने मुझसे कहा- क्या हुआ … अभी तो मज़ा आना शुरू हुआ था, तूने अभी से क्यों रोक दिया?

मैंने कहा- आज रात को हमें लड़कों की गांड मारनी है तो क्यों ना उसकी प्रैक्टिस की जाए.
रिया ने कहा- अबे गांड मारने की प्रैक्टिस कैसे करनी है?

मैंने आयेशा को इशारा किया और आयेशा बिस्तर से उठ कर चली गई.

अगले भाग में आपको बताऊंगी कि हम चारों ने उन चारों लड़कों की गांड किस तरह से मारी.

आप मुझे मेरी गर्ल गर्ल सेक्स कहानी पर अपने विचार अवश्य बताएं.

[email protected]
facebook: fehmina.iqbal.143

गर्ल गर्ल सेक्स कहानी का अगला भाग:

Leave a Reply

Your email address will not be published.