मेरी पंजाबी बीवी की चुदाई गैर मर्द से

हॉट पंजाबी सेक्स कहानी मेरी बीवी की है जिसे मैंने अपनी तमन्ना पूरी करने के लिए अपने सामने किसी गैर मर्द के लंड से चुदवाया. हम तीनों ने इस खेल का मजा लिया.

हेलो फ्रेंड्स आप सभी को मेरा नमस्कार।
मेरा नाम अमरप्रीत है, मैं पंजाब का रहने वाला हूं।

मैं आज आप लोगों को अपनी वाइफ की कहानी सुनाने आया हूं।
मेरी हॉट पंजाबी वाइफ का नाम सिमरन उर्फ़ सिम्मी है।

उसकी उम्र 28 साल है। वह एक मस्त भरे हुए जिस्म की औरत है।
मैं अपनी पंजाबी वाइफ से बहुत प्यार करता हूं और मेरी वाइफ मुझसे बहुत प्यार करती है। हमारी शादी को 2 साल हो गए हैं।

हमारी लाइफ में सब कुछ सामान्य चल रहा था। शायद ही कोई रात ऐसी जाती है जिस रात हम पंजाबी सेक्स करके नहीं सोते हैं।

मेरी वाइफ को भी मैंने सेक्स का बहुत आदी बना दिया है।

अगर किसी वजह से मैं उसके साथ एक या 2 दिन सेक्स नहीं कर पाता तो मैं फिर खुद मेरे पास आ जाती है और मुझे उकसाने लगती है अपने आप को चुदवाने के लिए।
तो आप सोच सकते हैं कि उसके अंदर कितना सेक्स भरा होगा।

जब मैं उसके साथ सेक्स करता हूं तो मैं उसे किसी और मर्द से चुदवाने के लिए और ज्यादा उत्साहित करता हूं।
वह भी फिर फुल मजे के साथ चुदवाती है।

सच बताऊँ तो रोज रोज एक जैसा सेक्स करने से सेक्स लाइफ बोरिंग हो जाती है इसलिए ऐसा करने से हमें हर रोज नया अहसास मिलता है।

लेकिन धीरे-धीर मुझे अपनी वाइफ को किसी के नीचे देखने की इच्छा तीव्र होने लगी।

एक दिन मैंने अपनी वाइफ सिम्मी के साथ सेक्स करते हुए पूछा- सिम्मी, एक बार मैं तुमको किसी से चुदते हुए देखना चाहता हूं।
और मैंने उसको बहुत सारा प्यार दिया।
उसको चोदते चोदते उसके माथे पर किस किया।

तब तो शायद वह सेक्स कर रही थी तो उसने हामी भर दी।
मुझे भी बहुत अच्छा लगा।

लेकिन जैसे हमारे बीच में सेक्स खत्म हुआ; उसने मुझसे साफ मना कर दिया।
उसने मुझसे कहा- हम किसी को फील करके सेक्स करते हैं, यहां तक ही ठीक है। किसी और को सच में लाइफ में मत लेकर आओ; यह मुझसे नहीं होगा।

फिर मुझे लगा यह ऐसे नहीं मानेगी तो मैं उस पर इमोशनल अत्याचार करने लगा।
मैंने आंखों में आंसू लेकर कहा- पागल … मैं तुझसे बहुत प्यार करता हूं. प्लीज मेरे लिए एक बार मेरी बात मान लो।

तो सिम्मी भी इमोशनल हो गई और उसने कहा- ठीक है, बस एक बार! फिर दोबारा तुम मुझसे नहीं कहोगे. मुझसे वादा करो.
मैंने कहा- ठीक है।
अब मैं पूरा खुश था क्योंकि मेरी इच्छा पूरी होने वाली थी।

अब मुझे किसी ऐसे शख्स की तलाश थी जिस पर मैं भरोसा कर सकता था और जो हमारी यह जरूरत पूरी कर सके।

कुछ दिनों की खोज के बाद मुझे एक बंदा मिल गया.
उसने मुझसे काफी अच्छे से बात की, वह हमारे से बहुत दूर का था।
उसका नाम हिमेश था।

उसने मुझसे कहा- आपको कभी भी मेरी जरूरत हो तो आप मुझे बेझिझक बोल सकते हैं।

कुछ दिनों तक हमारी और उसकी बातें होती रही।
मैंने अपनी वाइफ सिम्मी से भी उसकी एक दो बार बात करवाई वह दोनों भी आपस में थोड़ा खुल गए।

फिर जब हम सब आपस में नार्मल हो गए तो मैंने उसको अपने घर आने के लिए कहा.

उसने मुझसे कहा- भाई किसी होटल वगैरह में नहीं हो सकता?
मैंने उसको मना कर दिया. मैंने उससे कहा- भाई, मैं अपनी वाइफ को रियल फील करवाना चाहता हूं। उसके साथ यह सब पहली बार है वह कहीं बाहर जाएगी तो बहुत ज्यादा नर्वस हो जाएगी। घर में वह अपने आप को सबसे ज्यादा सेफ महसूस करेगी।

उसने मुझसे कहा- ठीक है भाई … कोई बात नहीं, मैं आपके घर पर ही आ जाऊंगा।
मैंने उसको एक रात का टाइम और दिन दोनों बता दिए और उससे कहा- तुम रात के करीब 9:00 बजे तक हमारे घर पर आ जाना।

हमारे बीच में सब कुछ फिक्स हो गया।

मेरी वाइफ एकदम मस्त तैयार हो गई थी.

सिम्मी मेरे पास आई और मुझसे बोली- बेबी, मैं थोड़ा नर्वस फील कर रही हूं; मेरे दिल की धड़कन तेज हो गई है.
मैंने उसको समझाते हुए कहा- जान, कुछ नहीं होगा।

रात के करीब 9:00 बजे तक वह हमारे घर पर आ गया।
मैंने हिमेश को पानी पिलाया।
फिर मैंने उसको खाना वगैरह के लिए पूछा तो उसने मना कर दिया.
उसने कहा- नहीं, मैं खाना वगैरह सब खा कर आया हूं।

हिमेश की उम्र 32 साल के आसपास थी। वह रंग में थोड़ा सांवला था पर एक हृष्ट पुष्ट इंसान था।

फिर हम सब अपने बेडरूम में चले गए।
हमारे बेडरूम की लाइट जल रही थी।

वहां उसने मेरी वाइफ को अच्छे से देखा और उससे कहने लगा- भाभी, आप तो बहुत खूबसूरत हो।
मेरी सिम्मी और ज्यादा शरमा गई और उसका चेहरा लाल पड़ गया।

फिर हम तीनों बेड पर बैठ गए।

हिमेश ने मुझसे कहा- आप रूम की लाइट बंद कर दीजिए और नाइट बल्ब को जला दीजिए. इससे हम सब थोड़ा रिलैक्स महसूस करेंगे, एक दूसरे को देख कर ज्यादा नर्वस नहीं होंगे।
मैंने ऐसा ही किया.

नाइट बल्ब में हम तीनों एक दूसरे को बहुत थोड़ा-थोड़ा देख सकते थे।
हम तीनों के रूम में होने का अहसास था पर ज्यादा कुछ साफ-साफ दिखाई नहीं दे रहा था।

इससे हम तीनों को सच में थोड़ा रिलैक्स महसूस हुआ।

फिर वह धीरे से मेरी वाइफ को छूने लगा, उसने सबसे पहले मेरी वाइफ का हाथ अपने हाथ में ले लिया।
उसके बाद वो मेरी वाइफ को अपनी ओर खींच कर उसकी गर्दन और उसके गालों पर किस करने लगा।

फिर धीरे-धीरे करके वह मेरी वाइफ सिम्मी के कपड़े उतारने लगा.
मेरी बीवी ने सलवार सूट पहने हुए थे. हम पंजाबी लोग हैं तो हम सूट और सलवार को ही ज्यादा अहमियत देते हैं।

मेरी वाइफ का सलवार सूट उतारते ही वह उसके सामने सिर्फ ब्रा और पेंटी में थी।
नाईट बल्ब में सिम्मी बला की खूबसूरत लग रही थी।

अब हिमेश ने उसको बेड पर लेटा दिया और उसके बूब्स और उसके जिस्म पर अपना अधिकार जमाने लगा.
मैं यह सब बैठ के एक अलग कोने पर बैठकर देख रहा था।

हिमेश मेरी सिम्मी के ऊपर लेट गया था और ब्रा के ऊपर से ही उसके बूब्स को जमकर चूस रहा था.

फिर कुछ देर बाद उसने उसके बदन से ब्रा और पेंटी को भी अलग कर दिया।
अब मेरी पत्नी सिम्मी उसके सामने बिल्कुल नंगी थी।

फिर वह सिम्मी के बूब्स को अपने मुंह में लेकर चूसने लगा.
सिम्मी की सिसकारियां निकलने लगी।

हिमेश धीरे-धीरे किस करते हुए नीचे उसकी चूत तक चला गया, उसकी चूत को अपने मुंह में लेकर चूसने लगा।
उसने मेरी बीवी की चूत को बिल्कुल गीला कर दिया।

अब मेरी वाइफ की आवाज में बहुत तेज हो गई और वह मजे के कारण उसके बालों में अपना हाथ फिराने लगी।

फिर हिमेश ने अपने कपड़े निकाले और अपने लंड पर कंडोम चढ़ाया।
अब उसने सीधा मेरी वाइफ की चूत में लंड डाल दिया।

उसके मुंह से अहा निकल गई और वह चिल्लाई- उई मां … आराम से!

शायद हिमेश ने एक बार में ही सारा लंड उसकी चूत में डाल दिया जिससे उसे थोड़ा दर्द हुआ था।
फिर वह धक्के लगाने लगा।

कुछ देर बाद मेरी वाइफ भी उसके नीचे पड़ी पड़ी उसका साथ देने लगी।
उसने अपने घुटनों को मोड़ लिया और अपने पैरों को थोड़ा ऊपर उठा लिया।

इस पोजीशन में लंड पूरा चूत में अंदर तक जा रहा था।

मैंने भी ध्यान से देखा तुम मेरी वाइफ उसके कमर पर अपना हाथ फिर आ रही थी।
शायद उसको भी पूरा आनंद आ रहा था।

मेरे वाइफ के बूब्स और बदन को जमकर चोद रहा था; वह उसे हर तरह से अपनी बनाना चाहता था।

सिर्फ 15 मिनट बीते होंगे कि मेरी वाइफ का पानी निकलने लगा और वह पूरी तेज आवाजों के साथ झड़ने लगी।
तो हिमेश ने मेरी वाइफ के होंठ पर किस करना चाहा लेकिन मेरी वाइफ अपने मुंह को इधर-उधर करती रही उसने अपने होठों को उसके होठों में नहीं लेने दिया.

तो उसने मेरी वाइफ की गर्दन पर किस कर दिया और मेरी वाइफ को झड़ता देख शायद वह भी झड़ने लगा।
उसके मुख से भी सिसकारियां निकलने लगी।
उसने भी सारा वीर्य मेरी वाइफ की चूत में ही निकाल दिया।

फिर वे दोनों थककर बेड पर ही लेट गए।
मेरी वाइफ बीच में लेट गई।
एक तरफ मैं लेट गया और दूसरी तरफ हिमेश।

इसी बीच हिमेश मेरी वाइफ के बदन को बराबर छेड़ता रहा।
कुछ देर बाद उसका लंड फिर से तैयार हो गया।

उसने मेरी वाइफ को लंड चूसने को कहा तो मेरी वाइफ ने कहा- नहीं, मुझसे यह सब नहीं होगा, तुम मेरे साथ कुछ भी कर सकते हो पर मुझसे नहीं होगा प्लीज।
तो उसने भी ज्यादा जिद नहीं की, कहा- कोई बात नहीं भाभी जी।

तब उसने कहा- आप मेरे ऊपर आकर राइडिंग तो कर सकती हो?
तो मेरी वाइफ उठी और उसके छाती पर हाथ रखकर उसके लंड पर बैठ गई और धीरे-धीरे आगे पीछे धक्के लगाने लगी।

बराबर में मैं भी लेटा था।
लेकिन वो मेरा ख्याल ना करके दूसरे में बिल्कुल खो गए थे।

नीचे से वह मेरी वाइफ के बूब्स को जमकर चूस रहा था।

बहुत देर तक हिमेश मेरी वाइफ सिम्मी को ऐसे ही चोदता रहा।

फिर उसने मेरी वाइफ को अपने ऊपर से उतारा और उसको घोड़ी बना लिया और पीछे से जाकर अपना लौड़ा उसकी चूत में डाल दिया और उसे घोड़ी बनाकर चोदने लगा।
वह हर तरह से मेरी वाइफ का सुख लेना चाहता था।

बहुत देर तक उन की चुदाई ऐसे ही चलती रही।
और मेरी वाइफ फिर से चरम सीमा पर आ गई और झड़ने लगी।

मैं उसके बराबर में लेटा था तो सिम्मी ने मेरा लंड अपने मुंह में ले लिया और आनंद के कारण उसको चूसने लगी।
और पीछे से हिमेश के लंड से झड़ गई।

हिमेश को शायद यह बात बहुत अजीब लगी क्योंकि अभी जब कुछ देर पहले हिमेश ने मेरी वाइफ को अपना लंड चूसने को कहा था तो उसने मना कर दिया था.

लेकिन शायद वह समझ भी गया कि मैं उसका हस्बैंड हूं.
और वह उसकी चूत में और तेज धक्के लगाने लगा और झंडने लगा। उसने भी वीर्य की एक-एक बूंद मेरी वाइफ की चूत में निकाल दी।

इस बार उनके चुदाई का कार्यक्रम लगभग एक घंटा चला होगा।

मेरी वाइफ बहुत थक गई थी तो वह मुझसे सोने के लिए कहने लगी.
उसने मुझसे कहा- मुझे आराम करना है।
तो मैंने भी उसे कह दिया- अब तुम सो जाओ।

रात के करीब 1 बज चुका था।
हम सबको लेटते ही नींद आ गई हमें पता ही नहीं चला।

सुबह के करीब 5:00 बजे होंगे मुझे हिमेश ने उठाया और मुझसे कहा- प्लीज भाई, मुझे एक बार और करना है. आप भाभी को उठाओ प्लीज!
मैंने उसको कहा- ठीक है, रुको।

मैं सिम्मी के पास गया, मैंने उसके बालों पर हाथ फिराया और उसके माथे पर किस किया।
तो उसने मुझसे कहा- प्लीज हटो, मुझे नींद आ रही है, मुझे सोने दो।

मैंने उसको कहा- बाबू 5:00 बज गए हैं। उठ जाओ … हमारे उठने का टाइम हो गया है।
और मैं लगातार उसके माथे पर और उसके बालों पर किस करता रहा।
तब जाकर शायद उसकी थोड़ी नींद टूट गई।

तब मैंने मौका पाकर उससे कहा- हिमेश एक बार और मेरी जानू की चूत चुदाई करना चाहता है। प्लीज उसको करने दो.
तो वह कुछ नहीं बोली.
मैं समझ गया कि वह भी चाहती है.
तो मैंने हिमेश को मेरी सिम्मी से पंजाबी सेक्स की इजाजत दे दी।

हिमेश फौरन उसके ऊपर चला गया और उसके बदन को किस करने लगा.
मैं उसके बदन को अपने आगोश में लेने लगा।

कुछ देर के बाद मेरी वाइफ की आवाजें कमरे में फिर से आने लगी।
मैं समझ गया कि हिमेश ने फिर से अपना लंड उसकी चूत में डाल दिया है।

जब हम सोए थे तो मैंने नाइट बल्ब भी बंद कर दिया था। जब मुझे कमरे में फिर से आवाजें आनी शुरू हुई तो मैंने जाकर नाइट बल्ब फिर से चालू कर दिया।

तो मैंने देखा कि मेरी वाइफ हिमेश के होठों को अपने होठों में लेकर चूस रही थी।
तब मुझे लगा कि हिमेश सक्सेस हो गया है, हिमेश ने इसको पूरी तरह से अपना बना लिया है।
सुबह का सेक्स ज्यादा उत्तेजना से भरा हुआ भी होता है। शायद मेरी वाइफ बहुत ज्यादा जोश में थी।

फिर उसने मेरी वाइफ से कहा- भाभी, प्लीज कुछ देर मेरा लंड भी चूस लो। दिल को सब्र आ जाएगा।
तो मेरी वाइफ उसके नीचे से हटी और उसको सीधा लेट आया उसके लंड को अपने मुंह में लेकर चूसने लगी।

हिमेश मेरी पंजाबी वाइफ के मुंह की गर्मी कुछ देर भी सहन नहीं कर पाया और उसके लौड़े अपना पानी छोड़ दिया।
लेकिन मैंने देखा मेरी सिम्मी ने लंड छोड़ा नहीं … उसका वीर्य निकलता रहा लेकिन फिर भी मेरी हॉट बीवी ने उसके लंड को चूसना बंद नहीं किया और उसके वीर्य को एकदम चाट कर साफ़ कर दिया।

मुझे यह बात बहुत अजीब लगी कि क्या तो वह उसके लंड को चूसने से भी मना कर रही थी। और क्या उसके वीर्य की आखिरी बूंद को भी पी गई।
लेकिन मुझे अंदर ही अंदर अच्छा भी लगा।

फिर मैंने सिम्मी से पूछा भी- यार तुम तो लंड चूसने को भी मना कर रही थी उसका और फिर वीर्य तक भी पी गई?
तो उसने मुझसे कहा- सॉरी बाबू, सुबह का यह सेक्स मुझे बहुत अच्छा लग रहा था; मुझे बहुत मजा आ रहा था. मुझे खुद नहीं पता था मैं क्या कर रही हूं।

और मुझसे कहने लगी- आप भी तो हमेशा यही चाहते थे। मैं आपके सामने किसी दूसरे मर्दों को खुश करूं।
तो मैंने उसको कहा- नहीं … मुझे तो बहुत अच्छा लगा!

वह मुझसे कहने लगी- अब तो आप खुश हो ना? मैंने हिमेश को पूरा खुश कर दिया है।
मैंने अपनी वाइफ के माथे पर किस किया और उसको गले से लगा लिया।

फिर मैं 7:00 बजे के आसपास हिमेश को उसके स्टेशन पर छोड़ आया।

घर आकर मैंने इस रात के बारे में अपनी वाइफ से बात की.
मैंने उसे कहा- सच बताओ कि तुम्हें बहुत अच्छा लगा ना?
तो मेरी वाइफ बस मुस्कुरा दी।

मैं समझ गया कि उसे यह रात बहुत अच्छी लगी है।

आपको हमारी पंजाबी सेक्स कहानी कैसी लगी, आप मुझे मेल कर सकते हैं।
[email protected]

Leave a Comment

Your email address will not be published.