बीवी और उसकी भतीजी की एक साथ चुदाई- 2

यंग गर्ल हिंदी Xxxx कहानी में पढ़ें कि मैं दारू पीकर अपनी पत्नी को चोद रहा था कि उसकी भतीजी ने हमें चुदाई करते देख लिया. बहाने से मैंने भतीजी को भी पिला दी.

दोस्तो, मैं आपको अपनी बीवी और उसकी भतीजी चंदा की चुदाई की कहानी सुना रहा था.

हिंदी Xxxx कहानी के पहले भाग
मेरी बीवी ने दारू पीकर चूत चुदवाई
में अब तक आपने पढ़ा था कि मेरी बीवी सिर्फ चड्डी में ही थी और अपनी भतीजी चंदा के पास उसे देखने लगी थी.

अब आगे यंग गर्ल हिंदी Xxxx कहानी:

अन्दर उसकी भतीजी सोफे पर पड़ी पड़ी पंखे को देख रही थी.
मेरी बीवी सीधे उसके बिल्कुल सामने खड़ी हो गयी और अपनी भतीजी से बोली- हां तो अब क्या कहना है तुम्हारा? नशा हुआ या नहीं?

उसकी भतीजी कुछ नहीं बोली और लहराती हुई सोफे पर बैठ गयी.

फिर उसने जो किया, वो तो मैंने बिल्कुल भी नहीं सोचा था.

उसकी भतीजी ने अपनी बुआ यानि मेरी बीवी का हाथ पकड़ा और बोली- बुआ, आप ग्रेट हो. आप सच में बहुत मस्त माल हो.

इतना बोल कर उसने मेरी बीवी को अपने और नजदीक खींच लिया और मेरी बीवी का पेट सहलाने लगी.
फिर वो मेरी बीवी से बोली- बुआ, क्या मैं आपको चूम सकती हूं?

मेरी बीवी नशे में जरूर थी, पर इतना तो वो भी जानती थी कि औरत को किसी दूसरी औरत को चूमकर कोई मजा थोड़ी आएगा.
वो बोली- तुम्हारे चूमने से क्या मजा आएगा, मजा तो तुम्हारे फूफाजी के चूमने पर आएगा.

उसकी भतीजी बोली- अरे बुआ, आप को अभी पता चल जाएगा कि मेरे चूमने से आपको कितना मजा आने वाला है. अविवाहित हूं इस लिए किसी लड़के के साथ तो नहीं कर सकती न, पर मैंने अपनी एक सहेली के साथ बहुत मजे किये हैं. कभी कभी लेस्बियन होने में भी मजा बहुत आता है.

मेरी आंखें हैरत से खुली की खुली रह गईं.
तो इसकी भतीजी लेस्बियन है.

मेरी बीवी बोली- लेस्बियन क्या होता है, मुझे नहीं पता. लेकिन अगर तुमें मुझे चूमकर मजा आए, तो चूम लो.

वो मेरी बीवी के चेहरे को चूमने लगी. फिर मेरी बीवी के निप्पल चूसने लगी.
मेरी बीवी ने हल्के से ‘आहह …’ किया.

वो बोली- क्यों बुआ, मजा आ रहा है या नहीं?
मेरी बीवी कुछ नहीं बोली और उसके मुँह से फिर हल्की सी ‘आहह …’ निकली.

उसकी आह से मुझे महसूस हो गया कि उसे मजा आ रहा है.
उसकी भतीजी अब उसके पेट को चूम रही थी. पेट चूमते चूमते अचानक उसने मेरी बीवी को सोफे पर गिरा लिया.

जैसे ही मेरी बीवी सोफे पर गिरी, तभी उसकी भतीजी ने फटाक से मेरी बीवी की पैंटी उतार दी.
हालांकि वो भी मेरी बीवी की तरह ही नशे से लहरा रही थी.

अब वो मेरी बीवी की टांगों के बिल्कुल बीच में बैठी थी.
उसने अपने हाथों से मेरी बीवी के पैर फैलाए और वो मेरी बीवी की चूत के बिल्कुल सामने बैठ गयी.

मेरी बीवी भी उसे जैसा चाहे वैसा ही करने दे रही थी.
अचानक उसकी भतीजी ने अपनी बुआ यानि मेरी बीवी की चूत पर अपने थरथराते होंठ रख दिए और उसकी चूत की फांकों को अपने मुँह में भर लिया.
इस अचानक हमले से मेरी बीवी मस्ती से सीत्कार उठी- आहह … उन्ह …

मेरी बीवी ने अपनी टांगों को भींचकर उसके सर को‌ अपनी चूत पर कसकर दबा लिया और एक मिनट तक उसको ऐसे ही दबाए रखा.

फिर पकड़ थोड़ी ढीली छोड़ी और वो अपनी जीभ बाहर निकाल कर सटासट मेरी बीवी की चूत चाटने में लग गयी.

मेरी बीवी पूरी तरह मस्ती में डूब चुकी थी. नशे में उसे बिल्कुल भी अहसास नहीं हो रहा था कि वो अपनी भतीजी से अपनी चूत चटवा रही थी.

दूसरी तरफ उसकी भतीजी भी नशे में टुन्न होकर अपनी बुआ की चूत को पूरी मस्ती से चाट रही थी.

भतीजी बोली- बुआ, मैं भी अपने कपड़े खोल दूं?
मेरी बीवी बोली- हां खोल दे चंदा, लेकिन मेरी इसे चूमती रह. बड़ा मजा आ रहा है.

ये बोलकर मेरी बीवी ने अपनी पानी टपकाती चूत की तरफ उसे इशारा किया.

उसकी भतीजी ने सिर्फ आधे मिनट में अपने सारे कपड़े खोल दिए.
अब वो सिर्फ चड्डी में थी.

वो फिर से पहले वाली पोजिशन में आ गयी और मेरी बीवी की चूत को सटासट चाटने लगी.

मेरी बीवी और उसकी भतीजी इस तरह मस्ती में डूब चुकी थीं कि उन्हें मेरा ख्याल तक नहीं आ रहा था कि कहीं मैं इन्हें ये सब करते देख ना लूं.

मस्ती में तो मैं भी डूबा हुआ था लेकिन इन दोनों की मस्ती देख कर मैं कुछ ज्यादा ही मदहोश हो गया था.

इनकी इस मस्ती का मैंने भी फायदा उठाने की सोची.
मैं दिमाग लगाने लगा कि आखिर कैसे फायदा उठाऊं?

अचानक से मुझे एक आइडिया आया.
मैं अपना मोबाइल लाया और उसे वीडियो रिकॉर्डिंग मॉड में सैट करके कमरे में एक जगह एडजस्ट कर दिया.

मोबाइल के कैमरा का एंगल इस तरह रखा कि वो दोनों अच्छी तरह नजर आएं.

मोबाइल लगाते समय उन दोनों को मेरे अन्दर आने का बिल्कुल भी अहसास नहीं हुआ.
भतीजी चूत चाटने में मशगूल थी और मेरी बीवी चूत चटवाने के मजे में आखें बंद किए हुए मजे ले रही थी.

रिकॉर्डिंग ऑन करके 2-3 मिनट तक मैं वहीं खड़ा भी रहा.

अब समय आ गया था कि मैं इस घटना का फायदा उठाऊं.
मेरा पूरा ध्यान मेरी बीवी की भतीजी पर टिक गया था. वो मेरी बीवी की चूत चाटते हुए अपने घुटनों पर थी.

मेरी बीवी सोफे पर एकदम लटकी हुई हालत में थी.

चंदा को मेरी बीवी की चूत चाटने के लिए ज्यादा नीचे झुकना पड़ रहा था और इस वजह से वो घोड़ी वाले पोज में थी.
सिर्फ चड्डी में उसके मांसल नितंब और गोरी गोरी मांसल टांगों ने मेरी टांगें कंपकंपा दी थीं.

मेरे से रूका नहीं जा रहा था. मैंने पायजामा पहना था और उसके नीचे अंडरवियर के अन्दर लंड टाईट हो गया था.
मैंने फटाक से अपना पायजामा खोला और अंडरवियर भी खोलकर एक तरफ उछाल दिया.

मेरा अंडरवियर सीधा एक खाली गिलास पर गिरा.
गिलास टेबल से नीचे फर्श पर गिर गया. गिलास की ‘टन्न.’ वाली आवाज कमरे में गूँज उठी.

मैं घबराया कि ये दोनों अब चौंक कर उठ जाएंगी.

मगर मजाल है कि जो दोनों में से एक ने भी गिलास के गिरने पर ध्यान दिया हो.
वो दोनों तो पहले की तरह ही अब भी अपने काम में मग्न थी.

मैं भी सोच में पड़ गया कि वाकयी इन दोनों को पैग कुछ ज्यादा ही काम कर गए.

अब मैं भी एकदम नंगा था और इन दोनों नंगियों के पास ही खड़ा था.
मैंने सोचा कि इनको कैसे रगड़ना शुरू करूं?

फिर ये सोचकर मैंने मन पक्का किया कि चलो जो होगा देखा जाएगा.
मैं अपनी बीवी की भतीजी के ठीक पीछे जाकर अपने घुटनों पर बैठ गया.

पहले तो गौर से उसके बड़े बड़े नितंब देखने लगा, फिर धीरे से उसकी चड्डी को नीचे कर दिया.

अब उसकी गांड दिखने लगी.

फिर हिम्मत करके चड्डी को थोड़ा और नीचे खिसका दिया.

वो बिल्कुल भी नहीं हिली और वैसे ही मेरी बीवी की चूत चाटती रही.

अब उसकी चड्डी मैंने इतनी नीचे कर दी थी उसकी चूत के थोड़े थोड़े दर्शन होने लगे थे.

अब मेरा लंड भी इतना तन गया था कि जैसे बस फटने ही वाला है.

मैंने अपनी सारी हिम्मत जुटाई और उसकी चड्डी को उसके घुटनों तक नीचे खिसका दिया.

वो मामूली सी हिली, पर अपने काम में लगी रही.

मेरी बीवी की मस्ती में डूबी सीत्कारें मुझे मदहोश किये दे रही थीं ‘आहह … ऊऊह ओह हहह …’

अब उसकी भतीजी की चूत मुझे अच्छे से दिख रही थी.
मेरी जीभ उसकी चूत देख कर लपलपाई.

मैंने आव देखा ना ताव और अपनी जीभ को उसकी चूत पर फिराने लगा.

मस्ती से वो अपने नितंबों को हल्के हल्के हिलाने लगी.

लेकिन अब भी उसने पीछे मुड़ कर नहीं देखा कि उसकी चूत कौन चाट रहा है. वो अपने लेस्बियन ख्यालों में डूबी हुई थी. शायद उसे मेरी जीभ अपनी सहेली की जीभ लगी होगी.

वो आराम से हिलती हुई अपनी चूत चटवाने लगी.

मेरी बीवी की चूत चाटते वक्त उसके मुँह से चपड़ चपड़ की आवाजें आ रही थीं.
अब चपड़ चपड़ के साथ उसकी ‘आहहह … आहहह …’ की आवाजें भी आने लगी थीं.

मेरे चाटना शुरु करने से पहले ही उसकी चूत से पानी झर रहा था.
उसकी चड्डी भी गीली थी, जब मैंने उसे उतारा.

उसकी चूत तो पहले से ही गर्म थी इसलिए मैंने उसकी चूत चाटना बंद कर दिया.
फिर अपने लंड को थोड़ा सा थूक लगा कर गीला किया और उसकी चूत के मुहाने पर सटा दिया.

पहले थोड़ा डर लगा लेकिन हिम्मत करके एक जोरदार झटका दे मारा.

उसकी चूत इतनी गीली थी कि मेरे एक झटके में मेरा पूरा लंड उसकी चूत में घुस गया.

अब उसे कुछ अलग अहसास हुआ और उसे दर्द वाली फीलिंग आयी. उसने मेरी बीवी की चूत चाटना बंद किया और पीछे मुड़ कर देखने लगी.

उसने अपने एक हाथ से मुझे हटाने की कोशिश की.
इतने में मेरी बीवी ने उसका मुँह अपने हाथों में पकड़ कर फिर से अपनी चूत पर दबा लिया और अपनी टांगों को कैंची की तरह उसकी गर्दन पर लपेट लिया.

अब वो अपने मुँह को हिला भी नहीं सकती थी.

मैंने एक झटका उसकी चूत में मारा तो उसने अपने आपको आगे की तरफ करके मेरा लौड़ा अपनी चूत से निकालने की कोशिश की.

लेकिन मेरी बीवी ने नशे और मस्ती में डूबकर उसके मुँह को अपनी चूत पर इस तरह दबा रखा था कि वो सिर्फ मेरी बीवी की चूत चाट सकती थी, हिल बिल्कुल भी नहीं सकती थी.

मैंने ये देखा तो उसकी परवाह किए बिना उसको चोदना शुरू कर दिया.

बस 2-3 मिनट के झटकों के बाद अब उसको भी चुदने में मजा आने लगा.
वो चुदवाते चुदवाते फिर से मेरी बीवी की चूत चाटने लगी.

लगभग 4-5 मिनट और चुदने के बाद उसका बदन ऐंठने लगा. मैं समझ गया कि इसकी चूत अब पानी छोड़ने वाली है.

मैं सटासट उसे चोदे जा रहा था.

लगभग 10-15 धक्कों के बाद उसने एक झटका सा खाया और अपनी टांगों को कसकर आपस में भींच लिया.
वो खल्लास हो चुकी थी.

उधर मेरी बीवी उसके मुँह को अपनी चूत पर जोर जोर से भींच रही थी.
उधर मेरी बीवी उसके मुँह को चोद रही थी, इधर मैं उसकी चूत को चोदे जा रहा था.

अब मेरी बीवी के भी झड़ने का समय आ गया था.
लगभग दो मिनट तक उसने अपनी भतीजी का मुँह फुल स्पीड से अपनी चूत पर रगड़ा और एक जोरदार झटके से अपनी गांड उछाल दी.
उसने भतीजी का मुँह अपनी चूत पर कसकर दबा लिया.
एक मिनट तक मेरी बीवी बिल्कुल नहीं हिली.

मैं भी रूक गया.
मेरी बीवी शांति से एक मिनट तक अपनी भतीजी के मुँह में झड़ती रही, फिर उसका मुँह अपनी चूत पर से हटाकर थोड़ा ऊपर सरक कर बैठ गयी.

उसके बैठ जाने से वो अब मुझे आराम से देख सकती थी.
वो देख रही थी कि मैं उसकी भतीजी को चोद रहा हूं.

लेकिन वो ये देख कर भी बिल्कुल आराम से बैठी थी और मुझे देख कर हल्के से मुस्कुरा रही थी.
उसके चेहरे पर दुनिया भर का संतोष नजर आ रहा था.

उस वक्त उसकी भतीजी का चेहरा बीवी के घुटनों पर रखा था.
मैंने फिर से उसकी भतीजी को चोदना शुरू कर दिया.

इस बार मैंने 2-3 मिनट तक बिना रूके तेजी से झटके मारे और अब मैं भी झड़ने वाला था.

मैंने अपने लंड को उसकी चूत में कसके धकेला और एक पिचकारी के साथ अपना वीर्य उसकी चूत में निकाल दिया.
कुछ 20 सेकेंड तक आख बंद किए हुए मजे से मैं उसकी चूत में झड़ता रहा.

फिर मैं और बीवी की भतीजी, हम दोनों ही मेरी बीवी के पैरों के पास लुढ़क गए.
दो मिनट तक मैं यूं ही पड़ा रहा, फिर उठ कर खड़ा हुआ.

मेरी बीवी की चूत से झमाझम पानी टपक रहा था जिसकी वजह से सोफा गीला हो चुका था.

उसकी भतीजी का मुँह और गला मेरी बीवी की चूत के पानी से सना हुआ था व उसकी चूत से मेरा वीर्य टपक रहा था.

वाकयी में हम तीनों ने जबरदस्त चुदाई की थी.
चूत लंड वीर्य और हमारे बदन से निकलते पसीने ने कमरे को एक शानदार महक से भर दिया था.

हम तीनों ही संतोष से भरे हुए थे.

उन दोनों का नशा थोड़ा थोड़ा कम होने लगा था.
मेरी बीवी ने अपनी भतीजी को पूछा- एक पैग से नशा होता है या नहीं?

उसकी भतीजी ने एक खूबसूरत सी मुस्कुराहट के साथ अपनी बुआ को देखा, फिर मेरे पैरों के पास बैठ कर मेरा वीर्य और उसकी चूत के रस से लिपटा लंड पूरा का पूरा अपने मुँह में घुसेड़ लिया.

फिर सपड़ सपड़ की एक जोरदार आवाज के साथ कस कर चूसते हुए मेरा लंड अपने होंठों से बाहर निकाला और शरारती मुस्कान के साथ बोली- बुआ रात को एक एक पैग और पीना चाहिए.

मैं समझ गया कि लौंडिया चुदने को मचल रही है.

उसने फिर से पूछा- आपका क्या कहना है?
मेरी बीवी हंसती हुई बोली- जरूर.

मेरी तो जैसे लॉटरी ही निकल आई.

हम तीनों की नजरें मिलीं और शरारत से मुस्कुरा दिए.

फिर तीनों एक साथ जोर से बोले- चीयर्स.

मेरे लंड को आज रात अपनी बीवी के साथ उसकी भतीजी की चुदाई करना है. मैं जा रहा हूँ.

आपको मेरी ये यंग गर्ल हिंदी Xxxx कहानी कैसी लगी, मेल जरूर करें.
[email protected]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *