नयी मामी को चोदा और मज़े किए- 1

होम सेक्स स्टोरी में पढ़ें कि मैं मामा के घर में रहता था. एक रात मैंने मामा मामी की चुदाई देखी तो मेरा मन मामी की चूत मारने के लिए बेचैन हो गया.

नमस्कार दोस्तो, हिन्दी सैक्स कहानी पर आपका स्वागत है।

मेरी पिछली कहानी थी: विधवा बुआ को दोस्त से चुदवाया

दोस्तो, जब मैं 12वीं की पढ़ाई के लिए अपने मामा के साथ रहता था तब मैंने अपनी सगी मामी को खूब चोदा। इसी होम सेक्स स्टोरी का मजा लीजिये पढ़ कर!

मेरे मामा की नौकरी जयपुर में लगी और वो मुझे अपने साथ पढ़ने के लिए ले गए।
मामा की नई नई शादी हुई थी। कुछ समय बाद मामी को भी मामा ले आए।

हमें गवर्नर्मेंट क्वाटर मिला था। घर में मैं, मामा, मामी रहते थे।

गर्मी का मौसम था. रात को मामा मामी अपने कमरे में सोने चले गए और मैं अपने रूम में आ गया।

मेरी मामी की उम्र 25 गोल गोल चूची और बाहर को निकली गांड मस्त मटक मटक कर चलती थी।

रात को मैं पानी पीने के लिए रसोई में गया.
तो मेरे कान में सिसकारियों की आवाज़ आई.

मैंने धीरे से मामा के कमरे में देखा, दरवाजा थोड़ी सा खुला था।
अब मैं धीरे से अंदर झांकने लगा।

मामा मामी के ऊपर चढ़े थे और झटके मार रहे थे.
और मामी आहह आहह आहह करके चुदाई करवा रही थी।
अंधेरे में कुछ दिख नहीं रहा था पर चुदाई की आवाज आ रही थी।

मैंने अपने अंडरवियर में हाथ डाल दिया और लंड को सहलाने लगा।

कुछ देर बाद दोनों की सिसकारियां बंद हो गई और चुदाई करके वो वैसे ही सो गए।

मैं अपने बिस्तर पर आ गया. मैं लंड पर थूक लगा कर हिलाने लगा और झटके मारने लगा.
थोड़ी देर बाद लंड का पानी निकल गया और मैं सो गया।

मैं रोज चुदाई देखने लगा और मामी को चोदने के सपने देखने लगा।

मेरे मामा की फील्ड की ड्यूटी लगी और वो 7 दिन के लिए जोधपुर चले गए।
अब घर में हम दोनों थे.

रात को खाने के बाद मैं अपने रूम में आ गया और मामी अपने रूम में चली गई।
थोड़ी देर बाद मामी आई, बोली- राज, तुम मेरे रूम में चलो. मुझे अकेले अच्छा नहीं लग रहा।
मैं खुश हो गया और उनके रूम में आ गया।

लाइट बंद थी, मैं और मामी बिस्तर पर लेट गए।

मामी ने गुलाबी मैक्सी पहन रखी थी और मैं अंडरवियर बनियान में था।

अब मुझे नींद नहीं आ रही थी; मेरी आंखों के सामने मामा मामी की चुदाई के दृश्य बार बार आ रहे थे।

मामी भी बार बार करबट बदल रही थी.
उनकी नई शादी हुई थी और रोज चुदाई की आदत से उनको नींद कहां आने वाली थी।

मैंने सोने का नाटक करते हुए अपनी टांग उनके ऊपर रख दी।
वो कुछ नहीं बोली तो मैंने अपना हाथ उनके बूब्स पर रख दिया।

उन्हें भी शायद अच्छा लगने लगा। उनकी मैक्सी ऊपर थी।

मैंने धीरे धीरे ऊपर से बूब्स दबाने शुरू किए. वो चुपचाप आंखें बंद करके लेटी थी।

अब मेरी हिम्मत बढ़ने लगी और मैंने नीचे से मैक्सी उठा दी और पैंटी के ऊपर से सहलाने लगा।
मामी गर्म होने लगी. उसने मेरा हाथ पकड़ कर अपनी पैंटी के अन्दर डाल दिया।

मैं समझ गया कि मामी खुद मुझसे चुदाने को तैयार हैं।
मामी की चूत को मैं सहलाने लगा और उसकी सिसकारियां तेज़ हो गई।

मैंने ब्रा के हुक को खोल दिया और खींच के निकाल दी और बूब्स दबाने लगा।

मामी ने अंडरवियर से बाहर मेरा लौड़ा निकाल लिया और उसे हिलाने लगी.
मैं मामी की चूत को उंगली से चोदने लगा।
मामी आहह आहह ऊई ईईई उईईई करने लगी और लंड को तेज़ तेज़ झटके से हिलाने लगी।

हम दोनों अब गर्म हो चुके थे. मैंने मामी की मैक्सी उतार दी और पैंटी भी निकाल दी.

अब मामी की चिकनी गुलाबी चूत को चाटने लगा उसकी सिसकारियां निकलने लगी।
मामी मेरे लंड को पकड़ कर आगे पीछे करने लगी।

मैं मामी की चूत चाटने लगा. उसकी चूत का टेस्ट नमकीन था मैंने चाट के गीली कर दी।

अब मैं नंगी मामी के ऊपर आ गया और अपने लन्ड को मामी के मुंह में डाल दिया.

वो मना कर रही थी. तो मैंने लंड को उनके होंठों पर रगड़ना शुरू कर दिया।
और फिर झटके से मुंह के अंदर घुसा दिया और तेज़ तेज़ झटके मारने लगा।

अब उसको भी नशा होने लगा और मामी मेरे लंड को लोलीपॉप के जैसे चूसने लगी।
मामी लंड को ऐसे चूस रही थी जैसे वो इस काम में मास्टर की डिग्री ले चुकी थी।

मैंने रूम की लाइट चालू कर दी.

मामी का नंगा जिस्म देखकर मैं पागल हो गया. उनका गोरा बदन 32-30-34 का फिगर देखकर मेरा लौड़ा खड़ा होने गया।

मैंने मामी को कंडोम दिया और वो मेरे लंड पर चढ़ाने लगी।
मैंने उनका फेवरेट बनाना फ्लेवर का कंडोम लगाया।

अब उनकी गांड के नीचे तकिया लगा कर मैं ऊपर आ गया और उनकी चिकनी गुलाबी मखमली चूत में लन्ड रगड़ने लगा।
वो बोली- राज अब तड़पाओ मत. लंड डालकर चोदो मुझे।

मैंने लंड को चूत में रखकर जोर से धक्का मारा.
मेरा लंड सटाक से मामी की चूत में घुस गया- उईई ईईई आह उईईई आह मां! राज निकालो अपना लौड़ा … मैं मर जाऊंगी।

मैंने उनके होंठों पर होंठ रख दिए और झटके मारने लगा।
उनकी आवाज घूघूघूघू करके आवाज दब गई और अब मेरे लौड़े के झटकों की रफ्तार तेज होने लगी।

अब मामी की चूत लंड को लेने लगी और आह उहह हह ओहह करने लगीं। वे मेरी पीठ पर नाखून गड़ाने लगी.
मैं और जोर जोर से धक्का मारने लगा।

अब हम दोनों को चुदाई का मज़ा आने लगा और कमरा चूत लंड की आवाज से थप थप थप थप गूंजने लगा।

मामी बोली- राज तुम क्या मस्त चोदते हो। कहां से सीखा?
मैंने कहा- आपसे!
वो बोली- झूठे कहीं के!

मैंने कहा- मैं सपने में आपको ही चोदता था रात में!
मामी बोली- आज सपने में नहीं … सच में देख तेरा लौड़ा मेरी चूत में है। आज जमकर चोद दे अपनी इस मामी को! आहह उम्महह चोद चोद मुझे आह!

अब मैं उठ गया और बेड पे लेट गया; मामी को लंड पर आने को कहा

वो मेरे लंड पर बैठ गई, मेरा लंड सट्ट से मामी के अंदर चला गया.
मामी ‘आह अह उम्माह उई ईईई सीईई आह हह’ करने लगी.

मैं झटके मारने लगा.
मेरा लंड मामी की चूत के अंदर-बाहर हो रहा था।

मैं मामी की चूचियों को मसलने लगा और वो लंड पर उछल उछल कर चुदवाने लगी।

हम दोनों बहुत गर्म हो गये थे, मुझे मामी को चोदने में बहुत मज़ा आ रहा था।

अब मामी की चूत लंड को कसने लगी और वो चूत का पानी छोड़ने लगी.
मेरा लंड चूत रस से भीग गया; फच्च फच्च … फच्च फच्च … करके लंड अंदर बाहर होने लगा।

अब मैंने मामी को अपने ऊपर से उतरने का कहा और उनके मुंह में लंड डालकर घुसाने लगा.
मामी गपगप करके लंड को चूसने लगी।

अब मैंने मामी को लिटा कर दोबारा अपना लंड उनके अंदर घुसा दिया और झटके मारने लगा.
अब वो दोबारा गर्म हो गई थी और ‘आआह हह आहह और तेज़ तेज़ राज आहह’ करके मुझे चूमने लगी।

हम दोनों मस्ती में आ गए और चुदाई का तूफान बिस्तर पर मचल बैठा।

मामी की चिकनी चूत में लन्ड ऐसे अंदर बाहर हो रहा था जैसे कोई पिस्टन चल रहा हो.

आज मामी मेरे लौड़े को लेकर मामा के लंड को भूल गई थी।
मामी बहुत खुश थी क्योंकि उनकी चूत में मेरा लौड़ा तूफान मचा रहा था।

अब मैंने झटकों की रफ्तार और बढ़ा दी अब मेरा लौड़ा पूरा अन्दर तक जाने लगा और मामी की सिसकारियां चीखों में बदलने लगी।
उसकी चीख से मेरे लौड़े को जोश आ रहा था और वो चूत को चीरता हुआ बच्चादानी में ठोकर मारने लगा।

अब मेरा शरीर अकड़ने लगा और झटके की रफ्तार कम होने लगी और लंड ने पानी छोड़ दिया।
मैंने लंड को बाहर किया और कंडोम उतार दिया लंड को चूचियों पर रगड़कर साफ करने लगा।

अब दोनों के शरीर पसीने से लथपथ हो गये थे और हम दोनों बिस्तर पर अलग अलग होकर लेट गए।
दोनों को नींद आ गई और सो गए।

सुबह 4 बजे में पानी पीने के लिए उठा। पानी पीकर रूम आया तो देखा मामी दोनों टांगों को चौड़ा करके सो रही थी।

मेरा लौड़ा खड़ा होने लगा और उसकी चिकनी गुलाबी मखमली चूत को चाटने का मन हो गया।
मैंने उसकी चूत में अपनी जीभ घुसा दी और चूसने लगा।

मामी जाग गई और ऊईईई ऊईईई आहह करके चूत में मेरा मुंह दबाने लगी।

मैंने चूत को चूस कर लाल कर दिया और अब मामी के मुंह पर लंड को रख दिया वो लंड चूसने लगी।

वो लंड बहुत मस्त चूस रही थी लंड को अंदर तक ले जाती फिर बाहर करती.
फिर अंदर लंड को गीला करके बोली- राज अब तड़पाओ न चोदो मुझे!

मैंने मामी को लिटा दिया और चूत में लन्ड घुसा कर झटके मारने लगा.
वो भी मस्त होकर लंड लेने लगी।

अब दोनों जबरदस्त तरीके से चुदाई करने लगे.
मामी ने अपनी बांहों में कस लिया और बोली- राज चोदो मुझे!
चिल्लाने लगी- आहह … आज मेरी चूत को फ़ाड़ दो!

मैं जोश में आ गया और लंड को अंदर बाहर करने लगा। मैंने झटकों की रफ्तार बढ़ा दी.
अब दोनों तरफ से झटके लगने लगे थे।

मामी जोर जोर से चिल्ला रही थी- आहह क्या मस्त लौड़ा है और चोदो आहह आहह उम्मह!
मैं जोर जोर से लंड को अंदर बाहर करने लगा।

मामी बोली- राज, जब तक तेरे मामा नहीं आते, तू मुझे रोज ऐसे ही चोदना।

वे बोली- तेरे मामा बस एक तरीके से चोदते हैं और पानी निकल गया तो सो जाते हैं।
मैंने कहा- हां मैं जानता हूं!
वो चौंक गई- कैसे?
मैंने बताया- दरवाजे से मैं रोज चुदाई देख कर लंड हिला कर सोता था।

अब मामी जोश में आ गई, बोली- राज तुम बहुत कमीने हो मामा मामी की चुदाई देखते हो।
मैंने जोर का धक्का लगाया और बोला- तभी तो आज तुम मेरा लौड़ा ले रही हो।

अब लंड चूत के घोड़े पर सरपट दौड़ रहा था.
‘आहह आहह आहह आहह ऊऊह आऊऊऊ’ की आवाज से पूरा कमरा गूंज उठा था।

अब धीरे धीरे उजाला होने लगा था।

मामी के होंठ मेरे होंठों को चूसने लगे और उसने मुझे अपनी बांहों में जकड़ लिया।
अब मामी की चूत ने पानी छोड़ दिया और वो मुझसे लिपट गई.

मैं अपने लंड को जोर जोर से मामी की चूत में अंदर बाहर करने लगा।
फच्च फच्च फच्च फच्च की आवाज लंड की रफ्तार से तेज़ी से आ रही थी।

अब मेरे शरीर ने लंड का साथ छोड़ दिया और मेरा पानी निकल गया।
थोड़ी देर मैं नंगी मामी के गर्म बदन के ऊपर ही लेटा रहा।

फिर मैं कंडोम निकाल कर लंड को जांघों में रगड़ने लगा.

और थोड़ी ही देर में हम दोनों को नींद आ गई।

सुबह जब मेरी नींद खुली तो 10 बज चुके थे.

मामी भानजा दोनों नंगे बदन एक दूसरे से लिपट कर सोए हुए थे।

मैं उठा और मामी के होंठों को चूम कर मामी को जगा दिया।

उस दिन हम दोनों साथ साथ नंगे नहाये।

चुदाई के लालच में शाम को सारे काम जल्दी करके हम बिस्तर पर आ गए और रात भर चुदाई की।

फिर हम कभी कभी दिन में भी राउंड लगा देते।

दोस्तो, उसके बाद जब भी मामा फील्ड पर जाते तो मैं मामी को मामा के लंड की कमी नहीं होने देता और अपने लंड से उनकी सेवा करता।

बाद में मैंने मामी को बिना कंडोम के भी चोदा और उसकी गान्ड में भी लंड घुसाया।

दोस्तो, मेरी होम सेक्स स्टोरी पसंद आ रही होगी आपको! तो कमेन्ट जरूर करें।
[email protected]

होम सेक्स स्टोरी का अगला भाग: नयी मामी को चोदा और मज़े किए- 2

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *