दूर की रिश्तेदार लड़की से दोस्ती और सेक्स

X गर्ल सेक्स कहानी में पढ़ें कि मैंने फेसबुक पर सजेशन मिलने पर एक लड़की को रिक्वेस्ट भेजी. वो मेरी दूर की रिश्तेदार निकली. बात आगे कैसे बढ़ी?

दोस्तो, यह मेरी पहली स्टोरी है, शायद आपको अच्छी लगे.

मेरा नाम प्रतीक है. मैं एक साधारण कद-काठी वाला लड़का हूँ और बहुत ही शर्मीला लड़का हूँ. मेरी हाइट 5 फुट 10 इंच है. यह स्टोरी मेरे और मेरी गर्लफ्रेंड राखी (बदला हुआ नाम) के बारे में है.

X गर्ल सेक्स कहानी सन 2019 की है, एक दिन मैं फेसबुक चैक कर रहा था, तभी मुझे एक लड़की दिखी.
क्योंकि मेरे कुछ दोस्त और उसके दोस्त कॉमन थे तो मुझे फेसबुक की तरफ से सजेशन आया था.

मैंने उस लड़की को दोस्ती के लिए रिक्वेस्ट भेज दी.
उससे दोस्ती की चाहत का एक कारण ये भी था कि वो दिखने में बहुत खूबसूरत थी.

दूसरे दिन जब मैंने देखा तो उसने मेरा निवेदन स्वीकार कर लिया था और वो मेरी दोस्त बन गई थी.

मैंने हर साधारण लड़के की तरह खुद पहला संदेश भेजा मगर उसने नजरअंदाज कर दिया.

थोड़ी देर बाद मैंने फिर से लिखा कि मैंने आपको कहीं देखा है, बस याद नहीं आ रहा है.
इस बार उसने मेरे मैसेज का जवाब दिया.

हमारी बातें शुरू हो गईं.
तब मुझे मालूम चला कि वो मेरी दूर की रिश्तेदार है.

अब हमारी बातें रोज़ होने लगी थीं.
फिर हमने एक दूसरे के नम्बर ले लिए और अब हम दोनों फ़ोन पर बात करने लगे.
लेकिन पता नहीं क्या हुआ … एक दिन उसने मुझे ब्लॉक कर दिया.

मैंने उससे उसका कारण पूछा तो उसने बताया कि तुम टाइम पर रिप्लाई नहीं करते, तुम में बहुत घमंड है.
तो मैंने उससे अपनी इस गलती के लिए सॉरी बोला और अब मैं उस पर और ज्यादा ध्यान देने लगा.

हमारी बातें फिर से शुरू हो गईं.
लगभग बातें करते हुए एक महीना हो रहा था.

एक दिन शाम की बात है, उसका कॉल आया.
उस दिन मैंने उससे कहा- तुम मुझे बहुत अच्छी लगती हो क्या मैं तुम्हें आई लव यू कह सकता हूँ!

मैंने पहली बार किसी को अपनी फीलिंग बताई थी क्योंकि मैं शर्मीला स्वभाव का होने की वजह से कभी किसी से अपनी फीलिंग बता ही नहीं पाया था.
उसने भी मुस्कुरा कर ‘आई लव यू टू …’ कह दिया.

ऐसे ही बातें होने लगी.

एक दिन उसका रात में कॉल आया. वो मेरे साथ सेक्स के बारे में बात करने लगी.
मैं बहुत शर्मा रहा था क्योंकि मैंने ऐसे कभी किसी से बात नहीं की थी.

जबकि मेडिकल स्टूडेंट होने की वजह से उसे ये सब नॉर्मल लग रहा था.

उसने मुझसे मेरे प्राइवेट पार्ट की पिक्चर मांगी लेकिन मेरी देने की हिम्मत ही नहीं हुई.
मैंने उससे कहा- अभी मेरा दोस्त मेरे पास है, इसलिए मैं अभी नहीं, बाद में देता हूँ.

दूसरे दिन जब उसने कॉल की तो वही बातें.
इस बार उसने पहल करते हुए मुझे अपनी नंगी पिक्चर भेजी, फिर मैंने अपनी पिक्चर भेजी.

अब हर रोज़ वो मुझे अपनी नंगी फोटो भेजती थी. हमारी बातें सेक्स की ही होने लगी थीं.
इस तरह से आग तो दोनों तरफ़ लग चुकी थी, बस देरी सिर्फ़ मिलने की थी.

हमें एक दूसरे से मिलने का टाइम नहीं मिल रहा था.
उसकी जॉब थी इस वजह से …

वो मेरे शहर से दो घंटा की दूरी थी, कुछ इस वजह से हमारी मुलाक़ात नहीं हो पा रही थी.
वो अपने शहर में पीजी में कमरा लेकर रहती थी तो मिलना मुश्किल हो रहा था.

रविवार की बात है, उसका मुझे सुबह सुबह कॉल आया.
‘आज मेरी छुट्टी है, मैं तुम्हारे शहर आ रही हूँ, वहीं मिलते हैं.’

मेरे मन में लड्डू फूटने लगे.
मैं जल्दी से तैयार हो गया.

उसका कॉल फिर से आया- कहां मिलेंगे?
मैंने कहा- तुम स्टेशन पर उतर जाओ, फिर आगे देखेंगे कि कहां जाना है.

लगभग दो घंटा बाद उसकी फिर से कॉल आयी ‘मैं स्टेशन आ गयी हूँ.’

मैं उसे लेने स्टेशन पर गया, तब मैंने उसे पहली बार सामने से देखा.
इससे पहले मैंने उसे सिर्फ़ वीडियो कॉल पर ही देखा था.

वास्तव में वो बहुत सुंदर लग रही थी.
उसने लाइट पीली कलर की सलवार और वाइट कलर की लैंगिंग्स पहनी थी और उसपर सफ़ेद दुपट्टा लिया हुआ था.
तीखी लिपस्टिक और कानों में छोटी छोटी सी बालियां पहने हुई थी, एकदम जहर लग रही थी वो!

आज मुझे ऐसा लगा कि जो प्यार होता है, वो इसे कहते हैं.
उस पर उसका भरा हुआ वो गोरा बदन मुझे और कामुक कर रहा था.

फिर मैंने उसको गाड़ी पर बिठाया और घूमने चले गए.
हमने बाहर ही खाना खाया.

करीब करीब चार घंटे घूमने के बाद हम दिनों बहुत थक चुके थे तो मैंने उसके लिए होटल में रूम बुक किया ताकि वो आराम कर सके.
हमने रूम में चैक इन किया.

शाम होने को थी, हम दोनों कमरे में आकर सो गए.

लगभग दो घंटा बाद मेरी आंख खुली.
तब वो सो रही थी.
मैंने उसके गाल पर किस की और मुँह धोने चला गया.

जब मैं वापिस आया तो देखा वो उठ चुकी थी. मैंने चाय ऑर्डर की, चाय पीने के बाद उसने मुझसे पूछा- तुमने नींद में मुझे किस क्यों किया?
मैंने कुछ जवाब नहीं दिया.

उस X गर्ल ने कहा- गाल पर कौन किस करता है, करना है तो होंठों पर करो पागल, अपनी गर्लफ्रेंड को किस करने में भी शर्माते हो क्या, वो भी रूम के अन्दर?

तब हम दोनों ने पहली बार लिपकिस किया.
वो चुम्बन मेरे लिए बहुत ही सुखद अनुभव था.

हम दोनों लगभग दस मिनट तक किस करते रहे.

तभी मेरे दोस्त का कॉल आया- फ़्लैट पर कब आ रहा है?
मैंने उससे कहा- आ रहा हूँ.

उसने हमारी बातें सुन लीं और बिना कुछ बोले वाशरूम चली गयी.
वो चेंज करके आयी.

उसने मुझसे कहा- मुझे भूख लगी है.
मैंने खाना कमरे में ही मंगा लिया.

ख़ाना खाने के बाद हम एक दूसरे से बात करने लगे.

फिर एक मोमेंट आया और मैंने उसे किस करना शुरू कर दिया.
फिर पता नहीं कैसे मेरे हाथ उसकी टी-शर्ट के अन्दर चले गए. मैं उत्तेजना वश मैं जोर जोर से स्तन दबाने लगा और पहली बार अपनी पैंट में झड़ गया.

हम एक दूसरे से अलग हो गए.
अब देर काफ़ी हो चुकी थी, मुझे घर भी जाना था.
मैंने उससे कहा- मुझे जाना होगा.

क्योंकि मैंने उसके साथ टाइम स्पेंड करने का दोपहर का प्लान बनाया था, ताकि मैं शाम को फ़्लैट पर जा सकूँ.

मेरी बात पर उसने कहा- मुझे शहर घूमना है, मैं अकेली कैसी रहूँगी! तुम्हें रुकना पड़ेगा.
उसकी बात सुनकर मैंने मेरे दोस्त को बता दिया कि मैं आज रात नहीं आ पाऊंगा.

फिर मैंने राखी से कहा- मैं सिगरेट पी कर आता हूं.
मैं मेडिकल स्टोर गया, वहां से कंडोम ख़रीदा और वापस आ गया.

राखी रूम में टीवी देख रही थी. मैं उसके पास जाकर बैठ गया.
वो मेरी गोदी में सिर रख कर टीवी देख रही थी.
मुझे उसके चुचों का उभार साफ़ दिख रहा था.

मैंने उससे पूछा- तुम्हारी साइज़ क्या है?
उसने कहा- चैक कर लो.
ये मेरे लिए हरी झंडी थी.

मैंने अपना हाथ उसके टॉप के अन्दर डाल दिया और उसके स्तन दबाने लगा.
तभी उसने उठकर मुझे किस करना शुरू कर दिया.
अब वो भी मुझे किस करने लगी.

मैंने उसकी टी-शर्ट उतार दी.
उसने क्रीम कलर की फ़्लावर वाली कप साइज़ ब्रा पहनी थी, जो 32बी आकार की थी.

मुझसे उसकी ब्रा का हुक नहीं खुल रहा था.
राखी ने वो काम मेरे लिए आसान कर दिया.

उसकी बॉडी शेप 32-26-30 की रही होगी.
उसको नंगी देख कर मेरे मुँह से कुत्ते की तरह लार टपक रही थी.
मैं उसके मम्मे दबाए जा रहा था और कभी दांत से काट भी रहा था.

मैंने उसके मम्मे चूस चूस कर लाल कर दिए थे.
वो भी मेरे छह इंच लंड के साथ खेल रही थी.

वो भी मेरा पूरा साथ दे रही थी जिससे मैं और उत्तेजित हो रहा था.
वो ‘आह .. आह …’ कर रही थी.

मैंने देरी न करते हुए लंड पर कंडोम पहना और उसकी चुत में डालने लगा.
क्या मस्त चुत थी उसकी … एकदम गुलाब की पंखुड़ी जैसी गुलाबी मस्त चूत.

मैंने अपने लंड के उसकी चुत पर रखा और जोर से धक्का मारते हुए अन्दर पेल दिया.
लंड घुस तो गया लेकिन वो बहुत मुश्किल से गया.

मैं धीरे धीरे अन्दर बाहर करने लगा क्योंकि उसे दर्द हो रहा था और मुझे भी, हमारा फ़र्स्ट टाइम जो था.

जैसे ही दर्द कम हुआ मैंने गति बढ़ा दी अब वो भी मजे से ‘आहा … अहा …’ की आवाज़ कर रही थी.
करीब पांच मिनट बाद मैं झड़ गया.

बेड पर थोड़ा खून गिर गया था, मेरे लंड में भी दर्द हो रहा था.

मैंने वाशरूम जाकर लंड को साफ किया फिर वापस आकर बॉडीलोशन लगाया ताकि लंड को दर्द से थोड़ा आराम मिल जाए.
राखी भी फ़्रेश होकर आ गयी और हम दोनों लेट कर बातें करने लगे.

हम दोनों चुदाई से थक गए थे तो सो गए.

सुबह छह बजे को मेरी आंख खुली.
मैंने देखा कि राखी सो रही है.

मेरा लंड उसको देख कर खड़ा हो गया.
मैंने उसकी पैंटी के ऊपर मेरा लंड रखा और उसके स्तन धीरे धीरे दबाने लगा.

मैंने उसे अपनी और घुमाया किस करने लगा.
वो नींद से जाग़ गयी और वो भी मेरा साथ देने लगी.
हम दोनों ने पांच मिनट तक किस की.

फिर लंड उसकी चुत पर रख कर मैंने अन्दर पेल दिया.
इस बार ज़्यादा दर्द नहीं हुआ.

वो धीमे धीमे ‘आज … अह आहा …’ कर रही थी.
मैंने अपनी स्पीड बढ़ाई, तो उसने भी अपनी कराहें बढ़ा दीं ‘अहह … आहा … उई …’
कमरे में फच … पच… की आवाज़ होने लगी थी.

X गर्ल राखी की आवाज़ें और तेज होने लगीं और वो जोर जोर से ‘आह … आह …’ करने लगी. उसकी सांसें फूलने लगी थीं.
उसका गोरा चेहरा लाल हो रहा था.
हम दोनों अपनी पूरी उत्तेजना में लगे हुए थे.

वो इस बार मुझसे पहले झड़ गयी.
मगर मैं रुका नहीं, मैं जोर जोर से उसे पेले जा रहा था.

कुछ देर बाद अब मुझसे भी रुका नहीं जा रहा था. मेरी भी सांसें तेज चलने लगी थीं.
मैंने स्पीड बढ़ा दी और जोर जोर से शॉट मारना शुरू कर दिए.

कुछ ही पलों में मैं झड़ गया और उसके बाजू में लेट गया.
उसके चेहरे पर जो ख़ुशी थी, वो मैं देख पा रहा था.

मुझे मेरे चेहरे पर भी मुस्कान आ गई थी.
मैं ऐसे ही उसे अपनी बांहों में लेकर लेटा रहा.
मैंने उसको दो घंटा तक अपने सीने से लगाए रखा और प्यार करता रहा.

मेरा लंड फूल चुका था, वो थोड़ा सा सूजा हुआ लग रहा था.
मुझे चलने में थोड़ी तकलीफ़ हो रही थी.
राखी का भी हाल भी मेरे जैसा ही था.

आख़िर मैं मैंने उसको एक लंबा किस किया और हमने होटल से चैक आउट कर लिया.
फिर मैं उसे स्टेशन पर छोड़ कर वापस आ गया.

उसके बाद हमने कैसे उसके घर सेक्स किया, उसके बारे किसी और दिन लिखूँगा.

दोस्तो, यह मेरी पहली सच्ची सेक्स कहानी थी, जो मेरी गर्लफ्रेंड के साथ हुई थी.
मैं आशा करता हूँ आपको पसंद आयी होगी.

X गर्ल सेक्स कहानी पर आप अपनी राय मुझे मेल करके जरूर बताएं.
मेरी मेल आईडी है
[email protected]

Leave a Comment

Your email address will not be published.