तलाक शुदा भाभी की जमकर की चुदाई

हेल्लो, दोस्तों मेरा नाम हिमांशु है और मैं बिहार का रहने वाला हूं। अभी मेरी उम्र महज 21 साल है और मैं कॉलेज में पढ़ाई के साथ ही जॉब भी करता हूँ। जॉब से आने के बाद मुझे फ़ोटोग्राफ़ी करना और फेसबुक और टिक टोक पर अपनी वीडियो डालना काफी ज्यादा पसंद है। मैं गौरे रंग का दिखने वाला एक हैंडसम लड़का हूँ। वैसे तो मेरी काफी लड़कियों से बातचीत है लेकिन मैंने अभी तक किसी को अपनी गर्लफ़्रेंड नही बनाया है क्योंकि मुझे प्यार पर जरा भी भरोसा नही है। भले ही मैं लड़कियों के चक्कर में बहुत कम पड़ता हूँ लेकिन मैं काफी कामुक लड़का हूँ और कभी-कभी मुझे आप लोगों की तरह यहाँ पर सेक्स की कहानियां पढ़ना भी काफी अच्छा लगता है। आज काफी इंतजार करने के बाद जब मुझे लगा कि यहां पर सभी लोग अपनी कहानी शेयर कर रहे है तो मैने सोचा कि क्यू ना मैं भी अपनी सच्ची कहानी आप सभी लोगों के साथ शेयर करूँ। तो आज मैं आपको मेरी एक अनोखी कहानी सुनाने वाला हूँ जिसे सुनकर आपको काफी मजा आएगा इसका मैं आप सभी से वादा करता हूँ।

तो यह कहानी है आज से 2 साल पहले की जब मेरी जिंदगी काफी आम हुआ करती थी। मैं सीधा कॉलेज के बाद जॉब जाया करता और फिर वहां से आकर facebook चलाया करता था। समय ऐसे ही कटता जा रहा था और जिंदगी मैं कुछ मजा ही नही आ रहा था। एक दिन ऐसा हुआ जब मैं फेसबुक चला रहा था और मेरे सामने एक लड़की का अश्लील फोटो आया जिसमे लिखा हुआ कि कमेंट में अपना नम्बर दीजिये मैं आपको कॉल करूंगी। मेने देखा की काफी लोग कॉमेंट कर के अपना नम्बर उस फ़ोटो के नीचे पेले जा रहे थे। पहले तो मैने सोचा कि ये किस तरह की बकचोदी है ऐसा भी कुछ होता है क्या? मुझे तो ये सब बस एक मज़ाक लग रहा था। खैर मेरे पास कुछ नया टाइम पास तो था नही इसलिये मेने भी अपना नम्बर उस कॉमेंट बॉक्स में डाल दिया था।

कुछ दिन तक तो ऐसे ही चलता रहा और फिर एक दिन मुझे एक लड़की का फेसबुक पर मैसेज आया और मेने जब उसकी प्रोफ़ाइल को खोल कर देखा तो मैने पाया कि वो एक भाभी थी जिसका एक छोटा सा बच्चा भी था। पहले तो मैने इस पर ध्यान नही दिया लेकिन जब मैने उस भाभी की फोटों को ध्यान से देखा तो मैने पाया कि वह भाभी काफी खूबसूरत और हॉट लग रही थी। इतना सबकुछ देखने के बाद अब मुझसे बिल्कुल भी रहा है नही जा रहा था, इसलिए मैंने भी उन्हें मैसेज कर दिया था। जब मैने भाभी से पूछा कि उन्होंने मुझे मैसेज क्यों किया? तब उन्होंने मुझे बताया कि उन्होंने मेरी फेसबुक पर एक कॉमेंट देखी थी, जिसमे मेने अपना नम्बर दिया था। ये वो लड़की नही थी जिसकी पोस्ट पर मैने कॉमेंट किया था, पर ये कौन थी, ये मैं भी नही जानता था। खैर उस भाभी ने मुझे मैसेज इसलिए किया था क्योंकि उन्हें लग रहा था कि मैं काफी अकेला हूँ। जब मैने उनसे बात की तो उन्होंने मुझे अपना नाम अनु बताया था।

अनु ओर मैं फेसबुक पर रोज़ाना बातें किया करते थे, ओर कुछ ही दिनों के अंदर हमारी नजदीकियां भी काफी ज्यादा बढ़ने लगे गयी थी। हम दोनों एक दूसरे से इतना घुल मिल गए थे कि हम कभी-कभी एक दूसरे के साथ सेक्स से संबंधित बातें भी कर लिया करते थे। मुझे धीरे-धीरे भाभी से प्यार होने लग गया था। बातों ही बातों मैं भाभी ने मुझे बताया था कि उन्होंने फेसबुक पर मेरी तस्वीरे भी देखी थी और उन्हें मैं काफी अच्छा लगता था। साथ ही उन्होंने मुझे ये भी बताया था कि वो एक बैंक में जॉब करती है और उनका बिहार में ही एक बहुत बड़ा घर भी है। अनु ने मुझे ये भी बताया था कि उनका पति उनकी शादी के दो साल बाद ही उन्हें छोड़कर चला गया था। यह सब सुनने के बाद तो मेरा मन और भी ज्यादा मचलने लग गया था। मुझे अनु भाभी काफी अच्छी लगती थी और मैं उन्हें काफी बेसब्री से चोदना भी चाहता था। अनु भाभी पतली कमर और गौरे रंग वाली एक खूबसूरत भाभी थी। उनकी आंखें भूरी ओर आंखें छौटी ओर लाजवाब थी। उन्हें देख कर ऐसा लगता था जैसे आसमान से स्वयं कोई परी उतर के आ गयी हो। फेसबुक पर चैट ओर फोन पर बातें करते हुए मेरा सब्र अब काफी ज्यादा टूटता ही जा रहा था।

एक दिन मेने भाभी से मिलने के लिए काफी जीद की ओर क्योंकि भाभी भी मुझसे मिलने के लिए काफी बेताब होती जा रही थी इसलिए उन्होंने मुझे कुछ ही दिनों बाद एक हाइवे पर मिलने के लिए बुला लिया था। मैं काफी ज्यादा खुश था क्योंकि मैं अब अनु को चौदने के काफी करीब पहुंचता जा रहा था। कुछ दिन बाद अनु के कहे हुए मुताबिक मैं उनसे मिलने के लिए हाइवे पर ही उनका इंतजार कर रहा था। कुछ देर ऐसे ही मैं हाइवे पर खड़ा होकर भाभी का इंतजार कर रहा था, तभी मेरे सामने एक लक्जरी कार आकर रुकती है। जैसे ही कार का दरवाजा खुलता है अंदर भाभी काली साड़ी और चश्मा पहने हुए एक खूबसूरत बला की तरह नजर आती है। अनु को देखते ही मेरा लंड अपनी टॉप स्पीड से खड़ा हो गया था। अनु भाभी ने पहले तो मुझे देखा ओर मेरे कपड़ों की तारीफ करते हुए मुझे कार के अंदर आने के लिए कहा। मैं जैसे ही कार के अंदर बैठा पहले तो भाभी ने कार को हाइवे के किनारे पर लगाया ओर वो मुझसे बातें करने लगीं। बातें करते हुए मेरा ध्यान उनके ब्लाउज के ऊपर हल्के से बाहर निकल रहे उनके बूब्स की तरफ जा रहा था।

भाभी से बातें करते हुए मुझे पता ही नही चला कि कब रात हो चुकी थी। रात को बातें करते हुए भाभी ने अपनी सीट के नीचे से एक शराब की बोतल को निकालते हुए दो जाम बनाये ओर एक जाम मेरी तरफ बढ़ाते हुए मुझे जाम पीने के लिए कहा। मेने भाभी को मना किया कि मैं शराब नही पिता लेकिन उनके जिद करने पर हम दोनों ने ही काफी शराब पी ली थी। अब हम दोनों काफी ज्यादा नशे में थे। इस दौरान भाभी ने मेरी जांग पर हाथ फेरना शुरू कर दिया था। उनके स्पर्श करने के कारण मेरी पेंट में एक लम्बा चौड़ा तम्बू तन गया था। मैं काफी जल्दी उत्तेजित होने लग गया था इसलिए मेने भाभी की गर्दन पकड़ी ओर उनके होंठों को चूमना शुरू कर दिया था। इस दौरान भाभी भी मुझे लगातार चूमते जा रही थी। अनु चुदने की काफी समय से भूखी लग रही थी क्योंकि वह अपने पति से तलाक ले चुकी थी। मेने अनु को ब्लाउज के ऊपर से ही उसके बूब्स को चूम रहा था। मैं उसके ऊपरी अंगों को एक पागल जानवर की तरह चूमता ही जा रहा था। कुछ ही देर मैं भाभी ने मेरी शर्ट को भी खोल दिया था ओर मेने भी उनके ब्लाउज को को खोल दिया था। अब भाभी भी केवल ब्लाउज में ही थी| अब हम फिर से एक दूसरे को किसी जानवर की तरह चूमते ही जा रहे थे।

कुछ देर बाद अनु ने मुझे दूर करते हुए कहा कि “यहां पर नही, ये सही जगह नही है कुछ भी करने के लिए” ओर बस इतना कहते हुए अनु ने कल रात मुझे अपने घर पर आने के बोल दिया था। मुझे ऐसा लग रहा था कि किसी ने मेरे खड़े लंड पर चाकू मार दिया हो, क्योकि में अनु को चौदने के काफी करीब जा पहुंचा था। खैर अब मैं कल रात का इंतजार कर रहा था। अगले दिन रात के समय, मैं ठीक बताए गए समय पर अनु के घर पर पहुंच चुका था। अनु नाइट ड्रेस में मेरे सामने खड़ी थी और वह काफी हॉट लग रही थी। नाइट ड्रेस मैं उसका भड़कीला शरीर काफी साफ नजर आ रहा था और उसकी गांड और बूब्स भी काफी प्यारे नजर आ रहे थे। अनु इस बार पूरी तैयारी में थी उसने पहले ही अपने बच्चे को दूसरे कमरे में सुला दिया था। मैं भी वायग्रा की गोली खा कर आया था और मैने भी ठान लिया था कि आज अनु की चुद को सुजाकर उसकी पूरी चीखें बाहर निकाल दूंगा। मेने अंदर घुसटे ही तुरन्त गेट लगाया ओर अनु को चूमने लग गया था। अनु मुझे चूमते हुए एक एक-एक कर के मेरे पूरे कपड़े उतार दिए थे ओर मेरे 7 इंच के ओजार को भी मेरी अंडरवियर से बाहर निकाल दिया था।

अनु का हवस का प्यासा चेहरा देख कर ही लग रहा था कि वो किसी के लण्ड की बहुत ज़्यादा प्यासी है। उसने मेरे लंड को एक ही झटके में अपने गले तक उतार कर उसे चूसना शुरू कर दिया था। अनु मेरे लंड को काफी मजे से चूस रही थी, जिसे देख कर मुझे भी काफी मजा आ रहा था। वो कुछ देर तक तो मेरे लंड को ऐसे ही चुस्ती रही और फिर मेने अनु को पकड़ कर उसकी नाइट ड्रेस को उतार कर उसे पूरी तरह से नँगा कर दिया था। मैं अनु को चौदने के लिए काफी समय से बेताब था। पहले तो मैने अनु को बिस्तर पर लेटा दिया और फिर उसके बूब्स को चूसने लग गया था। अनु के बूब्स काफी मस्त थे उसे चूसने में मुझे काफी ज्यादा मजा आ रहा था। उसके बूब्स को चूसने के बाद मेने उसकी योनि को भी चाटना शुरू कर दिया था। अनु की ओह आह अम्म आई कि आवाजें मेरे उत्तेजना को ओर भी ज्यादा बढ़ा रही थी। अब मैं ओर ज्यादा इंतजार नही कर सकता था। मेने तुरंत ही अपने लन्ड पर कॉन्डम चढ़ाया ओर अपने लंड को सेट करते हुए एक ही बार मे अपना लंड अनु की चुद में उतार दिया था।

इस दौरान अनु के मुंह से जोर की चीख निकल गयी थी। मैं इतना ज्यादा उत्तेजित हो गया था कि बिना अनु के दर्द की परवाह की उसे जबरदस्त तरीके से झटके देता हुआ चोदे जा रहा था। मेरी उत्तेजना कम होने का नाम ही नही ले रही थी और अनु की चीख पूरे कमरे में गूंजे जा रही थी। मेने अनु को पकड़ कर पहले उसका मुंह बंद किया और फिर अपनी पूरी रफ्तार के साथ किसी मशीन की तरह तेजी से उसे चोदता गया और इस दौरान अनु की चुद ने पानी छोड़ दिया था। इसके बाद भी मेरा जुनून कम ही नही हो रहा था और अनु को भी आज तक किसी ने इतने दमदार तरीके से नहीं चोदा था। मैं अनु को अलग अलग पोजिशन में चोदे ही जा रहा था। पूरी रात में हमने दो बार चुदाई की ओर मेने अनु का दो बार कामरस बाहर निकलवा दिया था। उस दिन के बाद से मैं अनु को हर हफ्ते उसके घर पर ही चोदा करता था।

अगर आपको यह कहानी पसन्द आयी होतो इसे शेयर जरूर करें।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *