चचेरे भाई से बुझाई अपनी चूत की प्यास

पोर्न कजिन सेक्स कहानी मेरे चचेरे भाई के साथ चुदाई की है. मैंने अपने माँ बाप को सेक्स करते हुए देखा तो चचेरे भाई को बताया. उसने मुझे चोदा. उसके बाद …

यह कहानी सुनें.

नमस्कार दोस्तो, मेरा नाम पूर्णिमा (नाम बदला हुआ) है. मैं अभी 21 की हूं और मेरा बदन भरा पूरा मस्त है.
जवानी में मेरे स्तन उभर चुके हैं जो हर किसी भी लड़के को अपनी ओर आकर्षित करते हैं. और मैं गोरे बदन की हूं।

बचपन में मैंने अपने माँ बाबू जी को सेक्स करते देखा करती थी.
तब मैंने अपने चचेरे भाई को भी बताया कि कि मैंने अपने माँ बाप को सेक्स करते हुए देखा.

इसी के बाद मेरी पोर्न कजिन सेक्स कहानी की शुरुआत हुई.

बड़े होने पर हम लोगों ने पहली बार सेक्स किया. पहली बारी में कुछ मजा नहीं आया.
लेकिन हम दोनों ने कई बार और सेक्स किया तो मजा आने लगा.
हम लोग एक दिन में 2 से 3 बार सेक्स करते थे बहुत मजा आता था।

फिर सब ऐसी चलता रहा.
और फिर मेरा भाई (चचेरा भाई है) कॉलेज की पढ़ाई के लिए बाहर चला गया.

लेकिन उसकी कमी मुझे बहुत खलती थी.
मैं उसे याद करके रोज अपनी चूत में उंगलियां करती थी लेकिन वो मजा नहीं मिलता था जो भाई के लौड़े से मिलता था।

तो मैंने कॉलेज में एक लड़का था, उससे मेरी अच्छी जमती थी, एक दिन उसने मुझे प्रपोज किया तो मैंने अपनी चूत की चुदाई के लालच में उसे हाँ बोल दी.

और फिर उसी के साथ कई बार सेक्स किया. लेकिन उसका लौड़ा मेरे चचेरे भाई के लंड से थोड़ा छोटा था तो मुझे वो पहले वाला सुकून नहीं मिलता था.
लेकिन सब जैसा था वैसे ही चलता रहा. मैं आधे अधूरे सेक्स के मजे से ही काम चलाती रही.

बीच बीच में मेरा भाई घर भी आता था छुट्टियों में लेकिन हमारे बीच वो सब बातें नहीं हो पाती थी और न ही हम सेक्स कर पाते थे।

फिर 4 साल बाद मेरा चचेरा भाई अपनी पढ़ाई पूरी करके गांव वापस आया तो मैं बहुत खुश थी।
लेकिन अब मेरे मन में तूफान सा आने लगा कि अब क्या किया जाए!
मुझे समझ नहीं आ रहा था कि कैसे अपने भाई से दोबारा सेक्स की बात शुरू करूं.

और ऊपर से घर वाले हमेशा घर में रहते थे तो और मुसीबत!

लेकिन भगवान ने एक दिन मेरी सुन ली.

गाँव से थोड़ी दूर मेला लगा हुआ था और घर के सभी लोग मेला देखने गए हुए थे.
मेरा जाने का मन नहीं हुआ तो मैं नहीं गई थी और भाई भी नहीं गए थे क्योंकि उनकी तबीयत थोड़ा ठीक नहीं थी.

तो हम दोनों लोग घर में अकेले थे.

मैं अपना मोबाईल चला रही थी और भाई अपना!

कुछ देर तक ऐसे ही हिचकिचाहट के कारण चलता रहा, कुछ नहीं हुआ.
और घर वाले रात को 10 बजे के बाद आने वाले थे।

तो फिर हम लोगों ने दोपहर का खाना साथ में खाया और बहुत सी बातें भी की.
मैंने उनके कॉलेज में गर्लफ्रेंड्स के बारे में पूछना चालू किया.

फिर धीरे धीरे हम दोनों की बातें पहले की सेक्स की तरफ होने लगी.
सेक्स की पुरानी बातें याद करके तो भाई का मन भी बनने लगा.
और मेरा मन कब से भाई के प्यार के लिए तरस रहा था।

फिर हम लोग कामुक होने लगे, एक दूसरे को चूमने लगे.
करीब 10 मिनट तक हम लोगों ने एक दूसरे को चूमा.

हम दोनों को ही काफी मजा आ रहा था. मेरी और भाई की साँसें काफी तेज चल रही थी.

फिर भाई बोले- सेक्स करें क्या?
लेकिन मैंने ना बोल दी.
और थोड़ा देर के लिए हम दोनों चुप हो गए।

फिर थोड़ी देर बाद भाई बोले- अरे पागल, तू डरती क्यों है? मैं हूं ना … कुछ नहीं होने दूंगा तुझे!
भाई के ऐसे बोलने पर मैं मुस्कुराने लगी.

और हम लोगों ने एक दूसरे को फिर से चूमना चालू कर दिया.
फिर भाई बोले- मैं मेडिकल से कंडोम लेकर आता हूं. फिर हम लोग खूब मजा करेंगे।

लेकिन मैंने भाई को मना कर दिया, बोली- भैया, आज ऐसी बिना कंडोम के करेंगे. ज्यादा मजा आएगा.

यह बात सुनकर भैया बहुत खुश हुए लेकिन मैंने भैया से वादा लिया कि आप अपना माल मेरी पुदी में नहीं निकालोगे.
तो भैया बोले- यार तू टेंशन मत ले … मैं हूं ना … मैं सब सम्हाल लूंगा।

फिर हम दोनों ने एक दूसरे के कपड़े उतारना शुरु किया.

थोड़ी ही देर में हम लोग एक दूसरे के सामने बिल्कुल नंगे हो गए.
मुझे थोड़ी शर्म सी आ रही थी लेकिन चूत में तो आग लगी पड़ी थी जो बिना लौड़े के शांत नहीं होने वाली थी।

फिर भैया ने मेरी चूत में अपने उंगली डालना शुरू कर दिया और साथ ही मेरे लबों का चुंबन कर रहे थे।
भाई मेरे बूब्स को अपने हाथों से मसल रहे थे.

इससे मैं सिहर गई थी लेकिन मुझे बहुत मजा भी आ रहा था. मेरे शरीर में एक आग सी लग रही थी और अजब सी बेचैनी होने लगी थी.

मैं थोड़ी देर में आवाज निकालने लगी- आह … उह आह हूम्म!
जैसे मैं आवाज निकाल रही थी तो भाई ने अपने मुंह में मेरे होंठ भर लिए और जोर जोर से चूमने लगा।

थोड़ी देर में मेरी चूत से पानी निकल गया, मेरी चूत तर हो गयी.

तो भाई समझ गया कि अब चुदाने के लिए तैयार हूं।
फिर भैया ने मुझे बिस्तर पर लेटाया और मेरी कमर के नीचे तकिया रखा और अपने लौड़े को थूक लगाकर तैयार किया.

अपने भाई का लौड़ा देख तो मैं डर गई.
मेरे भाई का 7.5 इंच का और बहुत मोटा सा था और किसी सरिए के जैसा खड़ा हुआ था.

मैंने काफी अरसे के बाद भाई का लंड देखा था, यह पहले के मुकाबले लम्बा और मोटा लग रहा था.

फिर भाई ने देरी ना करते हुए मेरी चूत में थोड़ा थूक लगाया और अपना लौड़ा मेरी चूत के छेद में रख दिया और फिर धक्का दिया.

लेकिन लौड़ा मेरी चूत के छेद से फिसल गया.
फिर भाई ने दुबारा अपना लौड़ा मेरी चूत में लगाया और थोड़ा अंदर करने के बाद एक जोरदार धक्का लगाया जिससे उनका आधा लौड़ा मेरी चूत में समा गया.

लेकिन मुझे बहुत तेज दर्द होने लगा. मेरे बॉयफ्रेंड का लौड़ा इतना बड़ा नहीं था और मुझे उसी की आदत थी।

मैं रोने लगी- भाई प्लीज अपना लौड़ा बाहर निकाल लो, मेरी चूत फट रही है, मुझे बहुत दर्द हो रहा है.
तो भाई ने अपनी प्यारी बहन की बात को मांन के अपना लौड़ा बाहर कर लिया.

फिर उन्होंने मेरे होठों पर अपने होंठ रखे और दोबारा से मेरी चूत में अपना लौड़ा घुसा लिया.

और फिर एक जोरदार वापसी के साथ भाई का लौड़ा मेरी चूत को चीरते हुए पूरा अंदर चला गया.
मुझे फिर तेज़ दर्द हुआ और मेरी आंखों से आँसू आने लगे.

फिर भाई ने धीरे धीरे अपना लौड़ा अन्दर बाहर करना चालू किया तो मेरा दर्द कम होने लगा और मुझे मजा आने लगा।

तो मैं भी भाई का साथ देने लगी और जोर जोर से आवाजें करने लगी क्योंकि घर में कोई नहीं था।

हम दोनों भाई बहन एक दूसरे को पूरी तरह से खुश कर रहे थे, अपनी जवानी में दोनों मदहोश होकर एक दूसरे को संतुष्ट कर रहे थे.

मेरे तन बदन को पूरी तरह मजा आ रहा था और मेरे मुख से ‘आह उह उहउह ओह उम्म …’ जैसी आवाजें आ रही थी।

हम लोगों ने उस दिन कई पोजीशन में सेक्स का मजा लिया.

काफी लम्बी चोदाई के बाद मैं 2 बार झड़ चुकी थी लेकिन भैया मेरी चूत चोदने का मजा ले रहे थे.

फिर थोड़े देर बाद भईया का भी निकालने वाला था तो उन्होंने मेरी चूत से अपना लौड़ा बाहर निकाला और अपनी बहन के नाभि के पास सारा वीर्य निकाल दिया।

अब तक हम दोनों पूरी तरह से थक चुके थे तो बिस्तर में लेट गए और एक दूसरे को और 10 मिनट तक चूमते रहे थे।

मुझे इतना मज़ा कभी भी नहीं आया था जितना भइया ने इस बार दिया था.
मैं पोर्न कजिन सेक्स करने के बाद बहुत खुश हो गई।

और थोड़ी देर बाद हमने बिस्तर ठीक किया और मैं रात का खाना बनाने की तैयारी करने लगी।

उस दिन के बाद हम दोनों भाई बहन ने और भी कई बार सेक्स किया है जिसमें बहुत मजा आया है.

प्रिय पाठको, आपको मेरी पोर्न कजिन सेक्स कहानी पढ़ कर आनन्द जरूर आया होगा. कहानी पर अपनी राय मुझे मेरे मेल आई डी और कमेंट्स में जरूर दें.
[email protected]

Leave a Comment

Your email address will not be published.